News Description
धुंध की चादर में लिपटा रहा जनजीवन, जीरो विजिबिलिटी ने रोकी वाहनों की रफ्तार

अंबाला शहर : बृहस्पतिवार सुबह की शुरुआत सघन धुंध की चादर में लिपटी हुई हुई। सुबह जीरो विजिबिलिटी (शून्य दृश्यता) की स्थिति रही तो दिन में भी धुंध छाई रही। जहां सड़क पर वाहनों की रफ्तार पर ब्रेक लगा रहा, वहीं रेल यातायात भी प्रभावित रहा। कई ट्रेनें अपने गंतव्य से घंटों लेट चल रही थीं। स्कूलों में बच्चों को भेजने को लेकर अभिभावकों की ¨चता बढ़ गई थी तो नौकरीपेशा व कामकाजी लोगों की भी धुंध ने खूब परीक्षा ली। धुंध की सघनता का अंदाजा इससे लगाया जा सकता है कि देर सुबह साढ़े ग्यारह बजे तक भी शहरी क्षेत्र धुंध से प्रभावित थे। वहीं, ग्रामीण इलाकों में तो दिन भर धुंध ने आवाजाही पर विराम लगाए रखी। दोपहर में घनी आबादी वाले शहरी क्षेत्रों में सूरज के दर्शन हुए जिससे तापमान कुछ बढ़ा

बृहस्पतिवार को दिन का अधिकतम तापमान 17.7 व न्यूनतम 11.6 डिग्री रहा। हालांकि, धुंध के बावजूद अधिकतम तापमान में तीन डिग्री व न्यूनतम तापमान में पांच डिग्री तक की बढ़ोतरी दर्ज की गई। मौसम में नमी की मात्रा सौ फीसद दर्ज की गई है। वहीं, विभाग ने आगे भी धुंध की स्थिति बने रहने की संभावना व्यक्त की है और तापमान भी अगले सात दिनों तक इसी रेंज में रह सकता है।सघन धुंध के चलते बनी जीरो विजिबिलिटी की स्थिति से वाहनों को दिन में भी फॉग लाइट का सहारा लेकर चलना पड़ा। राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या-1 पर भी वाहन चालक अपनी जान आफत में डाल कर अपने अपने गंतव्य की तरफ बढ़ रहे थे। वाहन एक दूसरे के पीछे लाइटों व सफेद पट्टी के सहारे आगे बढ़ रहे थे। वहीं, ¨लक मार्गो पर सफेद पट्टी नहीं होने से वाहन चालकों के लिए सड़कें पहेली बनी रही। लोग वाहन रोक रोक कर रास्ता पूछ रहे थे। ¨लक मार्गो पर सफेद पट्टी नहीं होने से लोगों की मुश्किलें और बढ़ गई थी।

ट्रेनों की आवाजाही रही प्रभावित

छावनी स्टेशन से होकर रोजाना करीब सवा तीन सौ ट्रेनें गुजरती हैं और हजारों यात्री मंडल रेलवे स्टेशन से देश भर में आवाजाही करते हैं। बुधवार रात से ही धुंध ने इन ट्रेनों की रफ्तार पर विराम लगा दिया था। ट्रेनें घंटों लेट रही और यात्री ठंड के दौरान प्लेटफार्मो पर ट्रेनों का इंतजार करते रहे। ट्रेनें चार से छह घंटे तक लेट चल रही थी। यात्रियों की मुश्किल कम होने का नाम नहीं ले रही थी।

आगे भी सताएगा मौसम

मौसम विभाग के मुताबिक शुक्रवार अल सुबह धुंध की स्थिति एक बार फिर से गहरा सकती है। ऐसे में एक स्थान से दूसरे स्थान तक सफर करने वाले लोग दिन के वक्त ही अपना सफर तय करें तो सुरक्षित रहेगा। मौसम विभाग की भविष्यवाणी के मुताबिक ही आवाजाही का प्लान तैयार करें तो सुरक्षित रहेगा। अनुमान के मुताबिक अभी आने वाले दिनों में ऐसी ही स्थिति बनी रह सकती है।

फसलों के लिए मुफीद साबित होगी धुंध

धुंध से बेशक जनजीवन प्रभावित हो रहा हो लेकिन किसानों के लिए यह फायदे का सौदा है। कृषि विज्ञान केंद्र तेपला के वैज्ञानिकों के मुताबिक धुंध गहराने से गेहूं की फसल को फायदा होगा। सर्द मौसम जितना लंबा चलेगा किसानों को गेहूं से उतना ही ज्यादा उत्पादन मिलेगा। बता दें कि जिले में करीब 90 हजार हैक्टेयर कृषि भूमि में गेहूं की फसल की बुआई की गई है।