# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
मेयर और सीनियर डिप्टी मेयरों का कार्यकाल कम करने की तैयारी

चंडीगढ़: हरियाणा में नगर निगमों के मेयर का कार्यकाल पांच साल से घटाकर ढाई साल करने की तैयारी है। यदि सहमति बनी तो चंडीगढ़ की तर्ज पर मेयर का कार्यकाल एक साल भी किया जा सकता है। इसके लिए करीब डेढ़ साल के लंबे अंतराल के बाद विज कमेटी की 27 दिसंबर को बैठक होने जा रही है।

हरियाणा में मेयर, सीनियर डिप्टी मेयर और डिप्टी मेयर का कार्यकाल घटाने के लिए प्रदेश सरकार ने 2016 की शुरुआत में स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज की अध्यक्षता में एक कमेटी का गठन किया था। अब तक इस कमेटी की मात्र दो बैठकें हुई हैैं, लेकिन उनमें कोई सहमति नहीं बन पाई है। पंजाब में भाजपा के सहयोगी दल शिरोमणि अकाली दल द्वारा रोहतक व अंबाला नगर निगमों के चुनाव लडऩे का एलान करने के बाद विज कमेटी एकाएक सक्रिय हो गई। विज कमेटी में हरियाणा की शहरी निकाय मंत्री कविता जैन, पूर्व मुख्य संसदीय सचिव सीमा त्रिखा और कुछ अधिकारी भी शामिल हैैं।

हरियाणा में 10 नगर निगम है। अंबाला व पंचकूला नगर निगमों को भंग करने की बात भी चल रही है। वर्तमान में नगर निगमों के मेयर का कार्यकाल पांच वर्ष का है। मेयर का चुनाव पार्षदों की वोट के आधार पर किया जाता है। प्रदेश में मेयरों का चुनाव सीधे तौर पर करवाए जाने तथा उन्हें अधिक अधिकार दिए जाने का मामला लंबे समय से विचाराधीन है। देश के कई अन्य राज्यों में इस समय मेयर का कार्यकाल ढाई साल है। राजधानी चंडीगढ़ में मेयर का कार्यकाल एक वर्ष है। ऐसे में हरियाणा सरकार भी मेयर का कार्यकाल ढाई साल अथवा एक साल करने पर विचार कर रही है।