News Description
शहर को जाम से जूझते छोड़ अवैध वसूली में लगी पुलिस

पलवल: शहर को जाम मुक्त करने के सुविधार्थ तथा सुरक्षा के लिए जगह-जगह लगाए गए पुलिस नाके अवैध उगाही का स्त्रोत बन रहे हैं। इन नाकों पर तैनात पुलिसकर्मी सुरक्षा पर नजर रखने के बजाय वाहन चालकों से उगाई करने में लगे रहते हैं।

कुसलीपुर में लगाए गए पुलिस नाके पर इसी प्रकार से अवैध वसूली का वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें दो पुलिसकर्मी अवैध वसूली में लगे हुए हैं। इस नाके के बिल्कूल साथ ही लघु सचिवालय है, जहा पुलिस अधीक्षक तथा जिला उपायुक्त सहित सभी अधिकारियों के कार्यालय भी हैं। नाके के बिल्कुल साथ में ही जिला अदालत परिसर भी है। पुलिसकर्मियों की अवैध वसूली का वीडियो सोशल मीडिया फेसबुक व वट्सअप पर वायरल हो रहे इस विडियो को आम लोग खूब देख रहे हैं, लेकिन पुलिस अधिकारियों को वह नजर नहीं आ रहा है।

इस तरह वाहन चालकों से उगाही करने का यह पहला मौका नहीं है। इससे पहले भी ऐसे कई मामले सामने आए हैं। हाल ही में गाव टप्पा-बिल्लोचपुर में हुई मार्केट कमेटी के पूर्व चेयरमैन संतराज व उनके चचेरे भाई की हत्या के बाद सुरक्षा के लिए लगाए गए पुलिस कर्मियों पर भी ग्रामीणों ने खुलेआम पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र हुड्डा के समक्ष वाहन चालकों से उगाही करने का आरोप लगाया था। हसनपुर थाना प्रभारी संदीप मोर को भी गाव के लोगों ने मौके पर ही खरी-खोटी भी सुनाई थी, लेकिन उसके बाद भी आज तक इस मामले में पुलिस अधिकारियों ने भी कोई संज्ञान नहीं लिया। अब ये विडियो वारयल होने के बाद एक बार फिर से जिला पुलिस विभाग पर उंगली उठने लगी हैं। वीडियो वायरल पर पुलिस अधीक्षक सुलोचना गजराज तथा ट्रैफिक डीएसपी अभिमन्यु लोहान से संपर्क करने का प्रयास किया गया, लेकिन दोनों अधिकारियों ने फोन नहीं उठाए।

ट्रैफिक थाना प्रभारी जसबीर सिंह का कहना है कि यह वीडियो उनके कार्यभार संभालने से पूर्व का है। अब ऐसा कोई मामला नहीं है। पुराना विडियो वायरल कर यातायात पुलिस कर्मियों को बदनाम करने का प्रयास किया जा रहा है