# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
दुकानदारों ने रेहड़ियां हटवा खुद किया अतिक्रमण

फतेहाबाद : शहर के हंस मार्केट में अतिक्रमण की समस्या भी लाइलाज सी हो चुकी है। पहले दुकानदार शोर मचाया करते थे कि यहां पर रेहड़ी वालों ने नाजायज अतिक्रमण कर रखा है। उनके शोर-शराबे पर नगर परिषद प्रशासन ने कई महीनों की मशक्कत के बाद रेहड़ी वालों का कब्जा हटवाया। पर अब यहां दुकानदारों ने खुद ही अतिक्रमण कर लिया है। अतिक्रमण भी इस कदर कि इस मार्केट से दुपहिया वाहन निकलना भी मुश्किल हो जाता है। दिनभर जाम की स्थिति बनी रहती है। यदि इस रास्ते से जल्दबाजी में किसी पीसीआर को निकलना पड़ जाए तो मुश्किल हो जाता है। इसलिए कई बार पुलिस भी अतिक्रमण हटाने के लिए पहुंच जाती है। लेकिन दुकानदार इतने आदी हो चुके हैं कि वे पुलिस से खरी-खोटी सुनने के बावजूद थोड़ी ही देर में फिर उसी जगह पर सामान रख लेते हैं। हालांकि दुकानदार पुलिस से थोड़ा बहुत डर मानते हैं, लेकिन नगर परिषद प्रशासन का इनके ऊपर बिल्कुल ही नियंत्रण नहीं है। यदि नगर परिषद के कर्मचारी अतिक्रमण हटाने चले भी जाएं तो दुकानदार विरोध में खड़े हो जाते हैं। चूंकि यहां पर काफी दुकानदार रसूखदार हैं। इसलिए जैसे ही नगर परिषद के कर्मचारी अतिक्रमण हटाने पहुंचते हैं,दुकानदार अपने अपने परिचित पार्षदों के पास फोन करना शुरू कर देते हैं। उसी वक्त पार्षद नप अधिकारियों के पास सिफारिशें लेकर पहुंच जाते हैं। ऐसे में अधिकारियों को भी पीछे हटना पड़ता है। बता दें कि शहर की हंस मार्केट बस स्टैंड के नजदीक है। इस कारण यहां पर काफी भीड़ रहती है। हंस मार्केट के रास्ते से ही बस स्टैंड से मुख्य बाजार की तरफ जाना पड़ता है। इसलिए यहां का अतिक्रमण पूरे शहर को परेशान करता है।