News Description
कर्मियों की हड़ताल से जनता परेशान, आज से बंद रहेंगे बिजली दफ्तर

अंबाला : क्वालिटी सब डिविजन अंबाला छावनी में तैनात लाइन मैन और सब यूनिट के वरिष्ठ उप प्रधान अनिल कुमार को बिजली निगम के एक्सइएन कशिश मान ¨सह ने सस्पेंड कर दिया है तो वहीं डीसी रेट पर रखे हुए बिल डिस्ट्रीब्यूटर बलवंत यादव और अजय कुमार को नौकरी पर रखने से भी इंकार कर दिया है। इसीलिए मामला तूल पकड़ गया है और बृहस्पतिवार को अंबाला छावनी की सब डिविजन नंबर एक, क्वालिटी सब डिविजन नंबर दो, बब्याल सब डिविजन, केसरी सब डिविजन और बराड़ा सब डिविजन में काम नहीं होगा। एचएसइबी वर्कर्स यूनियन संबंधित हरियाणा कर्मचारी महासंघ और आल इंडिया स्टेट इम्पलाइज कोआर्डिनेटर कमेटी के आह्वान पर यह सब डिविजन सुबह से बंद रहेंगे और कर्मचारी हड़ताल पर चले गए हैं। बुधवार को इन सब डिविजन में गेट मी¨टग हुई लेकिन बिजली निगम के अधिकारियों ने लाइनमैन का निलंबन और दो कर्मियों को वापस नौकरी पर वापस रखने से मना कर दिया। इसीलिए यूनियन के आह्वान पर क्वालिटी सब डिविजन नंबर दो को पूरा दिन बंद रखा गया है और सभी अब एक्सईएन अंबाला छावनी के अंतर्गत आने वाली पांचों सब डिविजन के कर्मी भी हड़ताल पर चले गए हैं। हड़ताल के चलते लोगों को भारी परेशानियां का सामना करना पड़ा।

मामला पहुंचा सदर थाने

क्वालिटी सब डिविजन में डीसी रेट पर रखे गए कर्मियों का हटाने का मामला अब सदर थाने में पहुंच गया है। एसडीओ पर जहां सब यूनिट के प्रधान शेर ¨सह और सब यूनिट सचिव प्रीत पाल ¨सह ने मुंह पर मांगपत्र फेंकने और गाली-गलौच करने का आरोप लगाया है तो वहीं एसडीओ ने भी यूनियन नेताओं पर मारपीट करने की कोशिश करने और गाली गलौच करने का आरोप है। डीसी रेट से हटाए गए कर्मियों का यह मामला अभी निपटा नहीं था कि एक्सईएन छावनी ने सब यूनिट के उप प्रधान एवं लाइनमैन अनिल कुमार को सस्पेंड कर दिया। इसी यूनियन भड़क गई है।

नहीं होगा कोई काम

अंबाला छावनी में एनवाईजी कंपनी बिजली उपभोक्ताओं के मासिक और दो माह के बिजली के बिल न तो तैयार कर पा रहा है और न ही री¨डग ले पा रही है। इसी वजह से छावनी की जनता परेशान है और अब यूनियन की हड़ताल के चलते बिजली के उपभोक्ताओं की परेशानी ओर बढ़ गई है। किसी भी सब डिविजन में बृहस्पतिवार से काम नहीं होगा। यदि समस्या का समाधान जल्द न हुआ तो यूनियन की हड़ताल लंबी चलेगी।

यूनियन ने दिया धरना

एचएसइबी वर्कर्स यूनियन के यूनिट प्रधान रुपेश शर्मा ने आरोप लगाया है कि एक्सइएन ने मामले को सुलझाने की बजाए लाइनमैन का सस्पेंड कर कर्मचारी विरोधी होने का परिचय दिया है। इसीलिए कर्मचारियों में रोष है। यदि यूनियन की मांग पर लाइनमैन के निलंबन को रद्द नहीं किया गया तो मामला तूल पकड़ेगा। इसीलिए जिस तरह से अंबाला शहर में एक्सइएन ने निगम में लगे हुए 6 कर्मियों को समायोजित किया है तो उसी प्रकार छावनी में हटाए गए कर्मियों को भी समायोजित किया जाएं