# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
जिला में 6 चयनित स्थलों पर होगी मॉकड्रिल, सभी तैयारियां पूरी

करनाल 20 दिसंबर,     उपायुक्त डा0 आदित्य दहिया ने कहा कि भूकम्प जैसी प्राकृतिक आपदा से निपटने के लिए राजस्व विभाग हरियाणा द्वारा 21 दिसम्बर को प्रदेश के सभी जिलों में प्रात: 10 बजे से विशाल मॉकड्रिल आयोजित की जाएगी। इस मॉकड्रिल की सफल आयोजन के लिए जिला के सभी अधिकारी अपने-अपने विभाग से सम्बन्धित तैयारियों को समय रहते पूरा करें। मॉकड्रिल के दिन वीरवार को किसी भी अधिकारी व कर्मचारी को छुट्टी नही दी जाएगी, इस मॉकड्रिल एक्सरसाईज़ में लापरवाही करने वाले अधिकारी व कर्मचारी के खिलाफ नैशनल डिजास्टर एक्ट के सैक्शन-55 व 56 के तहत कार्यवाही अमल में लाई जाएगी। 
उपायुक्त बुधवार को विडियो कॉन्फ्रैसिंग के बाद लघु सचिवालय के सभागार में अधिकारियों को दिशा-निर्देश दे रहे थे। इससे पहले चंडीगढ़ से विडियो कॉन्फ्रैसिंग के माध्यम से हरियाणा की अतिरिक्त मुख्य सचिव श्रीमती केशनी आनन्द अरोड़ा व राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के सदस्य मेजर जनरल वी.के. दत्ता ने प्रदेश के सभी जिला उपायुक्तों व अन्य अधिकारियों को भूकम्प के आने पर लोगों को राहत पहुंचाने के लिए किए जाने वाले प्रबंधों और लोगों को जागरूक करने के बारे में जिला स्तर पर की गई तैयारियों की जानकारी ली। 
      उपायुक्त डा0 आदित्य दहिया ने बताया कि 21 दिसम्बर को सुबह 10 बजे प्रशासन द्वारा चयनित सभी 6 स्थानों पर एक साथ सायरन बजेगा और सभी अधिकारी व टीम हरकत में आ जाएगी।  परिकल्पना के अनुसार भूकम्प आने पर किस प्रकार का बचाव करना है और लोगों को किस प्रकार की राहत पहुंचानी है तथा किस प्रकार ट्रेफिक प्रबंधन का इंतजाम करना है, परिकल्पना के अनुसार जो भी दुर्घटना होती है उसमें किस प्रकार बचाव निर्धारित समय में करने है इसके लिए भी अधिकारियों को सजग रहने की जरूरत है। जिन अधिकारियों व कर्मचारियों को जो डयूटी दी गई है वह लगन व कर्मठता से अपनी डयूटी करें। उन्होंने बताया कि भूकम्प की परिकल्पना के अनुसार मॉकड्रिल के समय सभी संचार के माध्यम बंद हो जाएगे, किसी भी प्रकार की सूचना देने के लिए मोबाईल फोन का नही बल्कि पुलिस की वॉकी-टाकी का प्रयोग किया जाएगा। इसके लिए पुलिस द्वारा जिला प्रशासन को 10 वॉकी-टाकी उपलब्ध करवाई है।