# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में ट्रैक्टर को कामर्शियल बनाने का जताया विरोध

हिसार, 19 दिसंबर: इनेलो संसदीय दल के नेता व हिसार से सांसद दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में केंद्र सरकार द्वारा ट्रैक्टर को कामर्शियल वाहन का दर्जा देने का मामला उठाया। उन्होंने सदन में किसानों की आधुनिक मशीन ट्रैक्टर को कॉमर्शियल, ट्रांसपोर्ट वाहन की श्रेणी और टोल टेक्स के दायरे में लाने के केंद्र सरकार के फैसले का विरोध करते हुए इस फैसले को वापस लेने की मांग की। 
 
इनेलो सांसद दुष्यंत चौटाला ने सदन में कहा कि सितंबर माह में केंद्र सरकार की ओर से एक गजट नोटिफि केशन निकाला गया जिसमें मोटर एक्ट अधिनियम में एक संशोधन किया गया है। एक्ट 1989 मोटर वाहन एक्ट के तहत ट्रैक्टर को कृषि क्षेत्र में नॉन ट्रांसपोर्र्टेशन व्हीकल का दर्जा दिया गया है। केंद्र सरकार ने अब संशोधित नोटिफिकेशन के तहत ट्रैक्टर को ट्रांसपोर्टेशन व्हीकल का दर्जा दिया जा रहा है। युवा सांसद ने कहा कि वर्तमान मोटर एक्ट प्रावधानों के तहत ट्रैक्टर पर किसी किसी प्रकार का टैक्स नहीं लगता और न ही टोल ट्रैक्स का प्रावधान है। 
 
दुष्यंत चौटाला ने कहा कि उत्तर भारत में एनसीआर रीजन के तहत हरियाणा का 57 प्रतिशत क्षेत्र, यूपी के 11 जिले और राजस्थान का एक जिला एनसीआर रीजन की परिभाषा में आता है। उन्हेांने कहा कि यदि केंद्र सरकार का प्रस्तावित नोटिफि केशन लागू हो गया तो किसान उपरोक्त क्षेत्रों मे किसान दस वर्ष से अधिक समय तक एक ट्रैक्टर नहीं चला पाएगा। उन्होंने केंद्र सरकार के इस नोटिफि केशन को पूरी तरह से किसान विरोधी करार दिया और इस नोटिफि केशन को तुरंत प्रभाव से वापस लेने की मांग की।
 यहां बता दें कि इनेलो द्वारा लगातार ट्रैक्टर को कामर्शियल और ट्रांसपोर्टेशन वाहन की श्रेणी में डालने का विरोध करती आ रही है और दो बार केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मिल चुकी और इनेलो संसदीय दल के नेता शीतकालीन सत्र के पहले दिन विरोध स्वरूप संसद भवन में ट्रैक्टर पर जा रहे हैं। 
 
दुष्यंत चौटाला ने लोकसभा में केंद्रीय मंत्री को बताया कि नए नोटिफिकेशन से किसान पर क्या क्या प्रभाव पड़ेंगे- ट्रैक्टर का दर्जा लग्जरी कार के बराबर हो जाएगा और उस पर सभी प्रकार के टैक्स व नियम लागू होंगे जो कि एक कार पर होते हैं।