News Description
नहीं हो पाई शिक्षामंत्री से बातचीत, निराश लौटे शिक्षाकर्मी

महेंद्रगढ़ : हरियाणा शिक्षा विभाग कर्मचारी तालमेल कमेटी के दस सदस्यीय प्रतिनिधमंडल की चंडीगढ़ में लगातार दूसरे दिन भी शिक्षामंत्री प्रो. रामबिलास शर्मा के साथ मुलाकात नहीं हो पाई। बुलाने के बाद भी दो दिन तक टरकाए जाने से कर्मचारी नेताओं में खासा आक्रोश है। कर्मचारी नेताओं ने कहा है कि यह दस हजार कर्मचारियों का अपमान है। सभी मिलकर प्रदेश सरकार के खिलाफ रणनीति बनाएंगे।

रविवार को प्रदेशभर के कर्मचारियों द्वारा महेंद्रगढ़ में किए गए विरोध प्रदर्शन के दौरान उपमंडल अधिकारी (नागरिक) विक्रम आइएएस ने कर्मचारी नेताओं को शिक्षामंत्री रामबिलास शर्मा से सोमवार को 12 बजे मिलाने का आश्वासन दिया था। तय कार्यक्रम के अनुसार कर्मचारी नेता संदीप सांगवान, सुजान मालड़ा, ईश्वर सिरोही, दलेल राणा, शर्मिला हुड्डा, सतीश सेठी, हितेन्द्र सिहाग, रामगोपाल व ऋषिपाल का 10 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल सोमवार को शिक्षामंत्री के चंडीगढ़ स्थित सेक्टर तीन के सरकारी आवास पर पहुंचा, लेकिन शिक्षामंत्री से मुलाकात नहीं हो पाई। मंत्री के निजी सचिव ने मंगलवार शाम तीन बजे का समय तय किया। कर्मचारी समय से पहुंच गए लेकिन मंत्री नहीं पहुंचे। मंत्री के कार्यालय सचिव राजेंद्र शर्मा से संपर्क करने पर पता चला कि शिक्षामंत्री मुख्यमंत्री के साथ बैठक में व्यस्त हैं। वे 4.30 तक पहुंच जाएंगे।

कर्मचारी शाम 6 बजे तक सचिवालय में इंतजार करते रहे, लेकिन मंत्री नहीं पहुंचे। कर्मचारी नेता संदीप सांगवान और सुजान मालड़ा ने फोन पर दैनिक जागरण को बताया कि अब उनका धैर्य जवाब दे चुका है। मांगपत्र शिक्षामंत्री के सचिव हरीशचंद्र को सौंप दिया है। सुजान मालड़ा ने कहा कि सरकार की कथनी और करनी में अंतर है। जो कहा जाता है, उसे किया नहीं जाता।

सभी विभागों के कर्मचारी सरकार की हठधर्मिता से परेशान हैं। सरकार ने उन्हें बुलाकर मांगों पर अमल शुरू नहीं किया तो बड़ा आंदोलन होगा।