# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
इधर-उधर भटकते रहे निगम मुख्यालय आने वाले

फरीदाबाद : नगर निगम के 7 हजार से अधिक कर्मचारियों को इस महीने का वेतन नहीं मिलने से लोगों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मंगलवार दिन भर कर्मचारियों ने काम ठप रखा। इसके चलते निगम मुख्यालय में काम के संबंध में आए लोगों को भटकना पड़ा। हाउस टैक्स, जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र तथा अतिक्रमण संबंधी शिकायतें लेकर आने वाले इधर-उधर दफ्तरों में कर्मचारियों का इंतजार करते नजर आए। मुख्यालय में कई कमरे बंद थे, जो खुले थे, वहां भी कुर्सिंयां खाली नजर आईं। वेतन न मिलने के मुद्दे पर कर्मचारियों ने एकत्र होकर रोष जताया।

म्युनिसिपल कॉरपोरेशन एम्पलाइज फेडरेशन की ओर से नवंबर का वेतन व सातवें वेतनमान के एरियर के भुगतान न किए जाने पर नगर निगम की एनआइटी, ओल्ड फरीदाबाद और बल्लभगढ़ जोन में दूसरे दिन भी काम ठप रहा।

बता दें कि नगर निगम की ओर से अभी तक नवंबर के वेतन का भुगतान कर्मचारियों को नहीं किया गया है और न ही सातवें वेतनमान के एरियर का भुगतान कर्मचारियों को किया गया है। कर्मचारी इस बात से ज्यादा खफा हैं कि निगम अधिकारियेां ने कुछ दिन पहले आश्वासन दिया था, जोकि अब तक पूरा नहीं किया गया। कर्मचारी नेता रमेश जगलान ने कहा कि जब तक कर्मचारियों को वेतन का भुगतान नहीं किया जाता, तब तक निगम की तीनों जोनों में काम ठप रहेगा।

मैं अपने पिता का मृत्यु प्रमाण पत्र लेने के लिए यहां आई थीं। दफ्तर तो खुला मिला, लेकिन कर्मचारी नहीं थे। पांच दिन से यहां चक्कर लगा रही हूं

-रुपाली।

संजय कॉलोनी की एक गली में अतिक्रमण की शिकायत लेकर नगर निगम आई थीं। किसी अधिकारी से संपर्क नहीं हो पाया।

-अर्चना शर्मा।

मैं आपने पिता स्व. नरेंद्र ¨सह का मृत्यु प्रमाण पत्र बनवाने आया था। कोई सुनने को तैयार ही नहीं हैं। सप्ताह भर पहले फॉर्म जमा करवाया था।