News Description
कूड़ा बीनने वालों का जीवन स्तर ऊंचा उठाएगा स्वच्छता सर्वे

बहादुरगढ़:केंद्र सरकार की ओर से स्वच्छता अभियान के तहत चलाए जाने वाले स्वच्छता सर्वे की बदौलत शहर में कूड़ा बीनने वालों का भी जीवन स्तर ऊंचा उठ जाएगा। कूड़ा बीनने वालों का जीवन स्तर इस स्वच्छता सर्वेक्षण में शहर की रैकिंग सुधारने के लिए अंक दिलाने का काम करेगा। इसी के चलते नगर परिषद की ओर से कूड़ा बीनने वालों का सर्वेक्षण शुरू कर दिया गया है और इनका पहले तो रजिस्ट्रेशन किया जाएगा और बाद में कूड़ा बीनने वालों को पहचान पत्र भी दिया जाएगा ताकि पुलिस व आमजन इन्हे चोर व शरारती तत्व समझकर परेशान न करे। इतना ही नहीं नगर परिषद की ओर से कूड़ा बीनने वाले लोगों के परिवार के बच्चों को शिक्षा दिलाने का भी उचित प्रबंध करेगी। साथ ही कूड़ा बीनते समय पैरों और हाथों के माध्यम से किसी घातक बीमारी से बचाने के लिए कूड़ा बीनने वालों बच्चों से लेकर बड़े लोगों को नगर परिषद की ओर से दस्ताने व जूते दिए जाएंगे।

स्वच्छता की रैकिंग में मिलेंगे अंक

केंद्र सरकार की ओर से हर साल किए जाने वाले स्वच्छता सर्वेक्षण में बहादुरगढ़ को इस बार 353वा स्थान मिला है। हालाकि वर्ष 2016 में बहादुरगढ़ को 437वा स्थान मिला था। 84 अंक का सुधार जरूर हुआ है लेकिन अब भी शहर सफाई के मामले में काफी पीछे है। इसका एक मुख्य कारण यह भी है कि शहर में सफाई को लेकर जागरूकता की कमी है। इसके अलावा विभिन्न मदों में अंक न मिलने की वजह से भी शहर सफाई के मामले में पिछड़ रहा था। मगर इस बार सफाई के मामले में नप अधिकारी शहर को बिल्कुल भी पिछड़ने देना नहीं चाह रहे है। कूड़ा बीनने वालों का जीवन स्तर उठाकर नगर परिषद यहा से भी अच्छे अंक हासिल करना चाहती है और इसी के चलते नप अधिकारियों ने इस दिशा में कदम बढ़ा दिए है। स्वच्छता सर्वे 4 जनवरी 2018 को होगा।

वर्जन

कूड़ा बीनने वालों का सर्वे किया जा रहा है। जल्द ही इनकी पहचान कर उनका रजिस्ट्रेशन किया जाएगा और उन्हे आइकार्ड भी दिए जाएंगे ताकि उन्हे कोई परेशान ना करे। साथ ही कूड़ा बीनने वालों के परिवार के बच्चों के लिए शिक्षा के प्रबंध किए जाएंगे। कूड़ा बीनने वाले किसी बीमारी का शिकार ना हों इसके लिए उन्हे दस्ताने और जूते भी दिए जाएंगे।