News Description
किसानों ने अपनाई जैविक खेती , मिल रहे सकारात्मक परिणाम

कैथल, 19 दिसंबर: हरियाणा सरकार द्वारा उद्यान विभाग के माध्यम से किसानों को परम्परागत खेती के स्थान पर जैविक खेती अपनाने के लिए किए जा रहे प्रयासों के सकारात्मक परिणाम देखने को मिल रहे हैं। सरकार द्वारा किसानों को बाग लगाने, नैट हाउस, ड्रिप आदि के लिए अनुदान प्रदान किया जाता है। जिला के जुलानी खेड़ा गांव के प्रगतिशील किसान सुधीर ने उद्यान विभाग की मदद से अपनी आमदनी को दो गुणा तक बढाने में सफलता हासिल की है।

प्रगतिशील किसान ने घटती जोत तथा आमदनी को बढाने के लिए परम्परागत खेती को छोडक़र जैविक खेती अपनाई है, जिससे उसकी आमदनी में कई गुणा वृद्धि हुई है तथ जैविक खेती से शुद्ध खाद्यान व सब्जियां उगाने में मदद मिली है। सुधीर जुलानी खेड़ा ने बताया कि उन्होंने हरियाणा सरकार की योजनाओं के तहत दो एकड़ में अमरूद, एक एकड़ में आड़ू, एक एकड़ में निम्बू के बाग, एक एकड़ में नैट हाउस तथा तीन एक एकड़ में जैविक सब्जियां उगा रहे हैं। प्रगतिशील किसान ने उद्यान विभाग की अनुदान योजनाओं का भरपूर लाभ उठाया है तथा अन्य किसानों को लिए प्रेरणा का स्रोत बन रहे है। किसान द्वारा जल के महत्व को समझते हुए सरकार की ड्रिप सिंचाई योजना के तहत 7एकड़ में ड्रिप सिंचाई अपनाई है। किसान द्वारा एक पैक हाउस भी बनाया गया है।

प्रगतिशील किसान सुधीर द्वारा जैविक खेती में नीम ऑयल, नीम केक, गौ-मूत्र, लस्सी, डि-कम्पोजर एवं ट्राईकोड्रमा का प्रयोग किया जा रहा है। प्रगतिशील किसान द्वारा 5 एकड़ में विभिन्न फलों के बाग तथा 2 एकड़ में जैविक सब्जी लगाई गई है, जबकि एक एकड़ में बाग के साथ जैविक खेती भी की  जा रही है। प्रगतिशील किसान ने उद्यान विभाग से नए बाग लगाने, नैट हाउस, ड्रिप सिस्टम तथा पैक हाउस पर अनुदान प्राप्त किया है।