News Description
गांवों में आपसी खींचतान और राजनीति में फंसी सीएम ¨वडो

कुरुक्षेत्र :सीएम ¨वडो गांवों में आपसी खींचतान और राजनीति के बीच फंसी हुई है। पंचायती जमीन पर कब्जे तक तो ठीक है, लेकिन घर के सामने फेंके जाने वाले गोबर, नाले के ऊपर बनने वाली पुलिया और न जाने कितने ही ऐसे मामले हैं, जो केवल मूंछ के सवाल पर सीएम ¨वडो तक पहुंच जाते हैं। जिले के 419 गांवों में शायद ही कोई ऐसा गांव बचा हो, जिसका विवाद सीएम ¨वडो तक नहीं पहुंचा हों। अधिकारी स्वयं इस बात को मान रहे हैं कि बहुत से मामले तो केवल आपसी खींचतान के निकलते हैं। इसी लिए तो कुल चार हजार में से 1717 शिकायतें केवल और केवल पंचायत अधिकारी की सीएम ¨वडो पर सौंपी गई हैं। गांवों की राजनीति का ही प्रभाव है कि डीडीपीओ कार्यालय पर सबसे ज्यादा मामले पहुंचे। जबकि मछली पालन, आयुर्वेद, रोजगार, खेल व हरियाणा रोडवेज ऐसे विभाग हैं जो शिकायतों के मामले में सबसे शांत हैं। इन विभागों की मात्र एक-एक शिकायत ही सीएम ¨वडो पर पहुंची।

अपनों के खिलाफ भी शिकायत

सीएम ¨वडो पर ऐसे भी मामले पहुंचे जहां खून के रिश्तों पर भी दोषारोपण हुआ। हाल में एक बहन ने अपनी भाभी पर चोरी का आरोप लगाते हुए पुलिस द्वारा कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया है। महिला ने अपने अपने भाई और भाभी के खिलाफ जेवर व पैसा चोरी करने का आरोप लगाया है। पुलिस की बात करें तो 229 लोगों ने पुलिस की कार्रवाई पर असंतुष्टि जताई। हालांकि इनमें से 228 मामलों का निपटारा कर दिया गया।

स्वास्थ्य विभाग व निजी चिकित्सकों के खिलाफ भी आई शिकायत

ऐसा नहीं है कि निजी डॉक्टरों की अनदेखी का मामला गुड़गांव व दिल्ली में ही सामने आया हो, बल्कि जिले के भी कुछ निजी अस्पताल व लैब संचालकों के खिलाफ अनदेखी के आरोप लगे हैं। जिसकी शिकायत लोगों ने सीएम ¨वडो पर की और उसके बाद मामले जिला सिविल सर्जन को भेज दिए गए। अब तक जिले में 19 मामले सीएम ¨वडो पर दिए गए, हालांकि इन सबका निपटारा हो गया। लेकिन निजी चिकित्सकों के खिलाफ कोई बड़ी कार्रवाई सामने नहीं आई।

स्वास्थ्य विभाग को नहीं दिखाई दी समस्या

सीएम ¨वडो पर गांव गोरखा के कुछ लोगों ने मक्खियां अधिक होने की शिकायत की थी, मगर मौके पर गई स्वास्थ्य विभाग की टीम शिकायत संबंधी समस्या गांव में नहीं दिखाई दी। गांव गोरखा के के एक व्यक्ति ने गांव में मक्खियों के प्रकोप की शिकायत अप्रैल माह में सीएम ¨वडो पर की थी। जिसपर स्वास्थ्य विभाग की टीम पहुंची। टीम वहां के लोगों को स्वच्छता के प्रति जागरूक कर वापस लौट आई थी।

गांव अजरावर से पशुओं को हटवाने की शिकायत भी सीएम ¨वडो में पहुंची। गांव के ही एक व्यक्ति ने घर के नजदीक पशुओं के तबेले को हटवाने की मांग की थी, जिसके बाद यह शिकायत सीएम ¨वडो के अधिकारियों द्वारा स्वास्थ्य विभाग को भेज दी गई थी।