News Description
हीटर से लगी आग, धुए में दम घुटने से कॉटन व्यवसायी की मौत

पानीपत: तहसील कैंप के रामनगर में सर्दी से बचाव के लिए कमरे में लगाए गए हीटर के तार में शार्ट सर्किट से आग लग गई। धुएं से दम घुटने से कॉटन वेस्ट व्यवसायी की मौत हो गई।

व्यवसायी रामनगर निवासी 51 वर्षीय ललित कुमार मलिक का नूरवाला में कॉटन वेस्ट का गोदाम है। ललित की मां 80 वर्षीय लाजवंती को चोट लगी थी। उसकी पत्नी सुनीता रविवार रात्रि सास के साथ नीचे के कमरे में सो गई। ऊपर कमरे में ललित दरवाजा व खिड़की बंद करके सोफे के पास टेबल पर रूम हीटर लगाकर सो गए। हीटर के तार में शार्ट सर्किट हुआ और चिंगारी सोफे पर गिर गई। आग से सोफा, डाइनिंग टेबल, फ्रीज व दरवाजे के साथ लगे पर्दे में आ लग गई। इसके धुएं से दम घुटने से व्यवसायी की मौत हो गई। सोमवार सुबह सुनीता साढ़े छह बजे पति को चाय देने के लिए ऊपर के कमरे में गई तो धुआं भरा हुआ था। पति को अचेत देखकर शोर मचाया। पड़ोसी मौके पर पहुंचे और दमकल की गाड़ी को बुलाया गया। दमकल ने आग पर काबू पाया लेकिन तब तक ललित की मौत हो चुकी थी। पुलिस व एफएसएल की टीम ने भी मौका मुआयना किया। पुलिस ने सामान्य अस्पताल में पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनों के हवाले कर दिया। वार्ड के पार्षद हरीश शर्मा ने बताया कि ललित के मामा भाजपा नेता डॉ. महेंद्र रंजन की 1991 में आतंकवादियों ने हत्या कर दी थी। ललित की बेटी मानसी कुरुक्षेत्र यूनिवर्सिटी से एमकॉम कर रही है। बेटा अक्षय गुरुग्राम में मारुति कंपनी में अधिकारी है। पत्नी सुनीता सरकारी स्कूल में शिक्षिका हैं।

तहसील कैंप चौकी प्रभारी सुनील कुमार ने बताया कि कमरे में आग लगने के बाद ललित ने बाहर निकलने की कोशिश की होगी। वह दरवाजे तक भी पहुंच गया था लेकिन धुएं की वजह से बाहर नहीं निकल पाया। आग की वजह से उसका एक हाथ भी झुलस गया