News Description
दलित संगठनों की हुंकार, सरकार ने हक नहीं दिए तो करेंगे सामूहिक धर्म परिवर्तन

जींद। बाबा साहेब डॉ. बीआर अंबेडकर के परिनिर्वाण दिवस के उपलक्ष्य में हुडा मैदान में विभिन्न दलित संगठनों द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित संविधान बचाओ, देश बचाओ महासम्मेलन में समस्त दलित जातियों ने एकजुटता की हुंकार भरते हुए कहा है कि यदि सरकार ने उन्हें पूरे संवैधानिक हक नहीं दिए वे सामूहिक रूप से धर्म परिवर्तन करने पर मजबूर होंगे। वे किसी सूरत में बाबा साहब द्वारा बनाए गए संविधान को बदलने नहीं देंगे, इसके लिए चाहे उन्हें कितनी बड़ी कुर्बानी भी क्यों न देने पड़े।

सम्मेलन में सर्वसम्मति से हाथ उठाकर यह प्रस्ताव पारित किया गया कि यदि कांग्रेस पार्टी डॉ. अशोक तंवर को आगामी विधानसभा चुनाव में सीएम पद का उम्मीदवार घोषित करती है तो दलित समाज की सभी जातियां उनका तन, मन, धन से सहयोग करेंगी।

सम्मेलन में कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अशोक तंवर ने कहा कि दलित समाज के लोग बाबा साहब को तो मन से मानते हैं, लेकिन उनकी बताई हुई बातों को नहीं मानते। समाज का उत्थान तभी संभव है, जब हम सब बाबा साहेब के बताये रास्ते पर चले और उनके दिये मूल मंत्र शिक्षित बनो, संगठित रहो और संघर्ष करो को अपनाएंगे।

तंवर ने कहा कि उनकी राजनैतिक रूप से व्यक्तिगत तृप्ति हो चुकी है, आगे अगर उनकी कलम में ताकत आती है तो वे उसका प्रयोग किसान, मजदूर, छोटे व्यापारी और वंचित वर्गों के कल्याण के लिए करेंगे। एसएल दहिया, जोगीराम खुंडिया, प्रीतम वाल्मीकि, संतलाल खटीक ने सम्मेलन की संयुक्त अध्यक्षता की। सम्मेलन को पूर्व विधायक लहरी सिंह, पूर्व विधायक भागीराम, डॉ. दलबीर भारती आदि वक्ताओं ने संबोधित किया।