News Description
कोर्ट की फटकार का भी अधिकारियों पर असर नहीं

 सोनीपत : लोगों को होने वाली परेशानी व दिक्कतों की फरियाद बार-बार लगाने पर भी कई विभाग व अधिकारियों की नींद नहीं टूटती है। नगर निगम की नींद ने इस तरह के मामले में कुंभकर्ण को भी पछाड़ दिया है। निगम अधिकारियों पर शहरवासियों को होने वाली दिक्कतों पर कोर्ट द्वारा लगाई कई बार की फटकार का भी असर नहीं हो रहा है।

दरअसल, सेक्टर-23 निवासी एडवोकेट सुमन दहिया ने 4 मई 2017 को स्थायी लोक अदालत में सेक्टर-23 में टूटी सड़क, फुटपाथ, पार्क व टूटे झूलों की काफी समय से मरम्मत नहीं कराए जाने पर निगम के खिलाफ केस किया था। इसके बाद से अदालत में कई तारीखें चली। इसमें शिकायतकर्ता के अलावा निगम के अधिकारी भी पहुंचे। अधिकारियों ने काम नहीं कराए जाने पर न्यायधीश की फटकार भी खाई, मगर अभी तक शिकायत पर कोई काम नहीं हो सका। सेक्टर की सड़कों का वही हाल है और कई जगह पर तो इतने बड़े गड्ढे हो गए हैं कि देर-सवेर दो पहिया वाहन सवार दुर्घटनाग्रस्त हो जाते हैं। इसके अलावा सड़कों के साथ बनाए फुटपाथ भी टूटे पड़े हैं। पार्क में बच्चों के खेलने के लिए बने झूले टूटे पड़े हैं। इन सभी समस्याओं को लेकर सेक्टरवासियों द्वारा निगम के दफ्तर के कई चक्कर लगाने पर भी काम नहीं हुआ तब जाकर सुमन दहिया ने यह मामला कोर्ट में पहुंचाया। अब कोर्ट के दखल देने के बावजूद भी नगर निगम कोई काम नहीं करा रहा है।