# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
सीएम दरबार में रखा जाएगा खेल मैदान मामला, सुनवाई नहीं तो आंदोलन

 रोहतक: सेक्टर-1 से खेल मैदान का प्रस्ताव रिजेक्ट होने का मामला सीएम मनोहरलाल के सामने रखा जाएगा। खेल मैदान का प्रस्ताव रिजेक्ट होने के बाद सेक्टर वालों में नाराजगी है। रविवार को रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के पदाधिकारियों ने बैठक की। जिसमें फैसला हुआ कि सोमवार को सीएम के अलावा हुडा के मुख्य प्रशासक, टाउन कंट्री प्ला¨नग के अलावा दूसरे अधिकारियों के पास लिखित में शिकायतें भेजी जाएंगी। पूरे प्रकरण में सीएम ¨वडो पर भी शिकायत की जाएगी।

रेजीडेंट वेलफेयर एसोसिएशन के प्रधान कदम ¨सह अहलावत के नेतृत्व में बैठक हुई। जिसमें फैसला लिया गया कि खेल मैदान का निर्माण करने के लिए हाउस की बैठक में प्रस्ताव पास हो चुका है, लेकिन अभी तक इस प्रकरण में सुनवाई नहीं हो सकी है। डीसी के अलावा सहकारिता मंत्री मनीष ग्रोवर भी खेल मैदान के निर्माण को लेकर आश्वासन दे चुके हैं। मगर खेल मैदान के प्रस्ताव को ही रिजेक्ट कर दिया गया है। नाराजगी जताते हुए प्रधान कदम ¨सह अहलावत के अलावा जनरल सेक्रेटरी केके खीरवाट, तिलकराज ढल, अनिल सांघी आदि ने कहा कि प्रशासन ने तत्काल ही राहत नहीं दी तो आंदोलन किया जाएगा। इस दौरान ईश्वर ¨सह सहरावत, डा. महेंद्र ¨सह श्योराण, एससी धवन, राजकुमार खुराना, डा.योगराज भाटिया आदि मौजूद रहे।

सीएम, हुडा के मुख्य प्रशासक, टाउन प्ला¨नग से लेकर दूसरे अधिकारियों के नाम लिखित में शिकायत दी जाएगी। यदि संबंधित स्थान पर खेल मैदान का निर्माण नहीं हुआ तो आंदोलन किया जाएगा। सहकारिता मंत्री से भी आपत्ति जताएंगे कि खेल मैदान के स्थान पर अधिकारी नर्सिंग होम का निर्माण कैसे करा रहे हैं।