# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
शीतलहर से कंपे लोग, धूप भी हो रही बेअसर

 रेवाड़ी : जिले में सर्दी के तेवर लगातार तीखे होते जा रहे हैं। दोपहर को दो दिनों से अच्छी धूप खिलने के बाद भी ठंड से राहत नहीं मिल रही है। शीतलहर का असर रहने की वजह से लोगों को दिन में निकलने वाली धूप भी राहत नहीं दे पा रही है। वहीं मौसम विशेषज्ञों ने दिन के बढ़ते तापमान के बीच आगामी दिनों में फिर से बूंदाबांदी की संभावना जताई है।

जिले में 11 दिसंबर से हुई बारिश के बाद न्यूनतम तापमान में गिरावट का क्रम बना हुआ है तथा हर रोज न्यूनतम तापमान में गिरावट हो रही है। रविवार को न्यूनतम तापमान 5.0 डिग्री सेल्सियस पर आ गया जो कि शनिवार के मुकाबले 0.5 डिग्री सेल्सियस कम है। हालांकि अधिकतम तापमान में रविवार को अच्छी खासी बढ़ोतरी दर्ज की गई है। रविवार को अधिकतम तापमान 22.5 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया है, जो शनिवार के 18.5 के मुकाबले 4.0 डिग्री सेल्सियस अधिक है। दोपहर को निकलने वाले धूप तो लोगों को सुकून दे रही है, लेकिन दिन में भी शीतलहर का असर बरकरार रहने के कारण लोग घरों में ही रहने को मजबूर है।

दोपहर के समय धूप सेकने के वक्त भी उन्हें गर्म कपड़ों का सहारा लेना पड़ रहा है, ताकि शीतलहर से बचाव हो सके। चौधरी चरण¨सह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय के बावल स्थित अनुसंधान केंद्र के मुताबिक अधिकतम तापमान में हो रही बढ़ोतरी से मौसम में फिर बदलाव आ सकता है। ऐसे में फिर से आसमान में बादल आ सकते हैं जिसके बाद कुछ दिनों बाद फिर से बूंदाबांदी की संभावना बन सकती है।