News Description
वीर सैनिकों के अदम्य साहस को राष्ट्र हमेशा याद रखेगा :उपायुक्त

अतिरिक्त उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने कहा कि आज से ठीक 46 वर्ष पूर्व स्वतंत्र भारत की सशस्त्र सेनाओं ने अपने गौरवमय इतिहास का सबसे सुंदर पृष्ठ लिखा था। आज के ऐतिहासिक दिन यानी 16 दिसम्बर 1971 को पाकिस्तानी सेना के 93 हजार सैनिकों ने अपने अस्त्र-शस्त्रों के विपुल भंडार के साथ-साथ अपने कमांडर जनरल ए.ए.के. नियाजी सहित भारतीय सेना के सम्मुख ढाका में आत्म समर्पण किया था। कितने गौरवमय थे वो क्षण जब भारत की प्रतिष्ठा अपनी चरम सीमा को छू रही थी। इतनी बड़ी जीत के पीछे हमारी शस्त्र सेनाओं की अभूतपूर्व वीरता बलिदान व शौर्य की गौरव गाथा जुड़ी हुई है। उन वीर सैनिकों के अदम्य साहस को समूचा राष्ट्र हमेशा याद रखेगा।  
एडीसी शनिवार को स्थानीय पंचायत भवन में सशस्त्र सेनाओं के सम्मान में जिला प्रशासन द्वारा आयोजित विजय दिवस समारोह में बतौर मुख्यातिथि बोल रहे थे। इससे पहले जिला सैनिक बोर्ड कार्यालय में स्थित शहीदी स्मारक पर पुष्प चक्र अर्पित किया और पंचायत भवन में आयोजित कार्यक्रम में जिला के वीर शहीदों के चित्र पर श्रद्धासुमन अर्पित किये। इस अवसर पर एसडीएम नरेन्द्र पाल मलिक,कर्नल डी.एस राजपूत,कर्नल सुनेहरा सिंह,कर्नल देवेन्द्र सिंह तथा अन्य अधिकारियों ने भी शहीदों को श्रद्धाजंलि दी। 
 एडीसी ने कहा कि 16 दिसम्बर 1971 को पाकिस्तान के साथ युद्ध में शहीद हुए सैनिकों की स्मृति में विजय दिवस मनाया जाता है। इस युद्ध के परिणामस्वरूप बंगलादेश को आजादी मिली थी। उन्होंने कहा कि आज बहुत ही खुशी की बात है कि हम अपनी उस महान विजय की स्मृति के क्षणों को ताजा करने व अपनी महान सशस्त्र सेनाओं के प्रति अपना प्यार व व्यवहार के साथ-साथ श्रद्धाजंलि देने के लिए इक_ा हुए है। उन शहीदों के सपनों को साकार करने के लिए युवा पीढ़ी को देश भक्ति और राष्ट्र की प्रगति के कार्यो में बढ़-चढक़र भाग लेना चाहिए। एडीसी ने कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को आश्वासन दिया कि जिला प्रशासन की तरफ से युद्ध में शहीद सैनिकों, वीरांगनाओं व उनके परिजनों को हर सम्भव सहयोग दिया जा रहा है तथा उनकी जो भी समस्याएं हैं,उनका निवारण प्राथमिकता के आधार पर किया जा रहा है। 
इस अवसर पर वीर चक्र विजेता कर्नल डीएस राजपूत ने विजय दिवस कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि 1971 की लड़ाई पाकिस्तान के विरूद्ध एक योजनाबद्ध तरीके से लड़ी गई थी। हमारे देश के जवानों ने अपने जीवन का बलिदान देकर देश को शानदार विजय दिलाई थी और हमारे देश के जाबांजों ने उस जंग को जीतकर देश को गौरवान्वित किया था। उन्होंने कहा कि हरियाणा वीरों की भूमि है यहां के हर जाबांज ने देश में हुए हर एक युद्ध में अपनी अह्म भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि देश भक्ति की भावना हर दिल में होनी चाहिए तभी देश तरक्की करेगा। उन्होंने यह भी कहा कि प्रशासन के अधिकारियों को चाहिए कि वे पूर्व सैनिकों और उनके परिवारों का ख्याल रखें, उनके किसी भी काम को लटकाने की बजाय प्राथमिकता के आधार पर पूरा करें। 
कार्यक्रम में कर्नल सुनेहरा सिंह ने भारतीय सेनाओं की ऐतिहासिक गौरव गााथाओं पर प्रकाश डाला और अपने जीवन के अनुभव को सांझा किया। उन्होंने कार्यक्रम में उपस्थित बच्चों का आह्वान किया कि देश के उपर चारों ओर से खतरा है और चीन अब भी अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है,ऐसे में हमारे देश के युवाओं को राष्ट्र सेवा के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए। भारतीय सेनाओं में काफी पद खाली पड़े है। उन्होंने कहा कि युद्ध के परिणाम भयानक होते है,लेकिन जो देश शांति की भाषा नहीं समझते,उन्हें केवल युद्ध की भाषा ही समझ आती है।    
जिला सैनिक बोर्ड की ओर से कर्नल देवेन्द्र सिंह ने आए हुए अतिथियों का स्वागत किया। कार्यक्रम में जिला सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के कलाकारों ने देश भक्ति गीत तथा स्कूली बच्चों ने राष्ट्रीय गान प्रस्तुत किया। कार्यक्रम में राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय रेलवे रोड की छात्राओं ने देशभक्ति से ओत-प्रोत गीत प्रस्तुत किया। इस अवसर पर शहीदों के परिवारों की विरांगनाएं तथा पूर्व सैनिक उपस्थित थे। 
बॉक्स:-विजय दिवस कार्यक्रम में युद्ध वीरांगनाओं को किया गया सम्मानित 
अतिरिक्त उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने विजय दिवस कार्यक्रम के अवसर पर 22 युद्ध वीरांगनाओं को आर्थिक सहायता राशि का चेक भेंट किया। इनमें से 12 युद्ध वीरांगनाएं कार्यक्रम में उपस्थित थी तथा शेष के घर पर आर्थिक सहायता सैनिक बोर्ड द्वारा पहुंचा दी जाएगी। मौके पर उपस्थित युद्ध वीरांगानाओं में कोहण्ड से सरोज देवी,पाढा से ओमपती देवी,गगसीना से शांति देवी,कुडलन से लक्ष्मी देवी,असंध से कृपाल कौर,राहड़ा से सावित्री देवी,बढ़ौता से सुनेहरी देवी,करनाल से जसबीर कौर,ब्रास से प्रकाशवती,बजीदा जटान से राजपति देवी,कलेहड़ी से सुमनलता तथा जुंडला से सर्बजीत कौर के नाम शामिल है।