# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
निजी अस्पतालों में ऑपरेशन, ओपीडी व इमरजेंसी सेवा रही बंद

जींद : इंडियन मेडिकल एसोसिएशन हरियाणा के आह्वान पर शुक्रवार को जिलेभर में निजी अस्पतालों व नर्सिंग होम में हड़ताल रही। क्लीनिकल इस्टेब्लिसमेंट एक्ट के विरोध में निजी अस्पतालों में ओपीडी, इमरजेंसी व सभी तरह के आपरेशन बंद रहे। अस्पतालों में पहले से दाखिल मरीजों का ही इलाज किया गया। निजी अस्पतालों में हड़ताल होने से नागरिक अस्पताल में भीड़ रही।

आइएमए के सभी सदस्य शुक्रवार सुबह नेहरू पार्क के सामने अंबेडकर पार्क में एकत्रित हुए और धरना देते हुए रोष प्रकट किया। धरने के बाद सभी डॉक्टरों ने प्रदर्शन करते हुए अतिरिक्त उपायुक्त धीरेंद्र खडगटा के कार्यालय में मुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। आइएमए के अध्यक्ष डॉ. धर्मपाल खर्ब ने बताया कि अगर यह कानून लाया गया, तो इलाज का खर्च दस गुना बढ़ जाएगा, इससे गरीब मरीजों का जीना मुहाल हो जाएगा। महासचिव डॉ. मनोज कुमार ने कहा कि ईमानदार डॉक्टर अस्पताल बंद करने पर मजबूर हो जाएंगे व मजबूरन मरीजों को बड़े नामी अस्पतालों में जाना पड़ेगा, जहां ईलाज पर लाखों रूपये का खर्च होगा। डॉ. सुशील मंगला मीडिया प्रभारी ने सरकार को चेताया कि अगर हम पर जन विरोधी काला कानून थोपा गया तो हम सभी प्राइवेट डॉक्टर अपने अस्पताल को बंद करके अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे व दूसरे बड़े शहरों में पलायन कर जाएंगे। इस मौके पर डॉ. सुरेश जैन सर्जन, डॉ. सत्यवान शर्मा, डॉ. प्रमोद बंसल, डॉ. राजेंद्र सेठी, डॉ. सुरेश जैन, डॉ. कंवर सेन गोयल मौजूद रहे।