# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
भवन निर्माण कामगार यूनियन का प्रतिनिधिमंडल उपायुक्त से मिला

निर्माणमजदूरों की समस्याओं को लेकर भवन निर्माण कामगार यूनियन का एक प्रतिनिधिमंडल शुक्रवार को जिला प्रधान जंगीर सिंह की अध्यक्षता में उपायुक्त डाॅ. हरदीप सिंह से मिला और ज्ञापन सौंपा। उपायुक्त ने इस बारे प्रतिनिधिमंडल को एडीसी से बातचीत के लिए भेजा। एडीसी और प्रतिनिधिमंडल के बीच निर्माण मजदूरों की समस्याओं को लेकर विस्तार से चर्चा हुई जिस पर एडीसी ने 20 दिसंबर को बैठक बुलाई है जिसमें सिविल सर्जन शिक्षा अधिकारी भी मौजूद रहेंगे। 

सीटू जिला सचिव ओमप्रकाश अनेजा ने बताया कि हरियाणा में निर्माण मजदूरों के लिए कल्यण बोर्ड का गठन किया गया है जिसके तहत मजदूरों का पंजीकरण बोर्ड से किया जाता है और पंजीकृत मजदूरों को अनेक सुविधाएं बोर्ड की ओर से दी जाती है। बोर्ड द्वारा मजदूरों के पंजीकरण के लिए अस्थाई तौर पर अधिकारी की जिम्मेवारी लगाई गई है परंतु उक्त अधिकारी फतेहाबाद की बजाय हिसार में ही बैठता है जिस कारण यहां के मजदूरों को पंजीकरण करवाने में अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। 

यूनियन ने एडीसी से बोर्ड के कार्यालय के लिए फतेहाबाद में स्थान उपलब्ध करवाने, श्रम अधिकारी के दो दिन फतेहाबाद में बैठना सुनिश्चित करने कर्मचारी की सप्ताहभर ड्यूटी लगाने की मांग की है ताकि मजदूरों को कोई परेशानी हो। इसके अलावा यूनियन ने लेबर शैड का निर्माण, हाल, शौचालय स्नानघर का निर्माण करवाने की मांग की। उन्होंने कहा कि कन्यादान, छात्रवृति, टूल किट, साइकिल, मृत्यु लाभ के फार्म 2016 में जमा करवाए गए थे, लेकिन अभी तक उनके अकाउंट में पैसे नहीं आए हैं जबकि बोर्ड में 2300 करोड़ रुपये जमा है।