# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
शहर के प्राइवेट अस्पताल पूरे दिन बंद रहे फिर भी मरीजों को नहीं आई खास परेशानी

प्रदेशसरकार द्वारा निजी अस्पतालों के पंजीकरण और उनकी निगरानी के लिए बनाए गए हरियाणा क्लीनिकल स्टेब्लिशमेंट एक्ट के विरोध में शुक्रवार को शहर के निजी डॉक्टर हड़ताल पर रहे। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन से जुड़े डॉक्टरों ने सुबह छह बजे ही हड़ताल कर दी थी। जिसकी वजह से निजी अस्पताल और क्लीनिक खोले तो गए, लेकिन ओपीडी पूरी तरह से बंद रही। हालांकि इमरजेंसी हालात में पहुंचे रोगी को प्राथमिक उपचार कर उन्हें सरकारी अस्पताल में भेजा गया। शहर में मरीजों को ज्यादा दिक्कतों का सामना नहीं करना पड़ा और सिविल अस्पताल में भी अन्य दिनों की तरह नॉर्मल ओपीडी हुई। 

इस एक्ट को आमजन और डॉक्टर विरोधी बताते हुए डॉक्टरों ने जीवन ज्योति इंस्टीट्यूट में बैठक की। डॉक्टरों का कहना था कि ये एक्ट उन पर थोपा गया है और इस एक्ट की वजह से कई छोटे अस्पताल बंद हो जाएंगे, क्योंकि इलाज बहुत महंगा हो जाएगा। बैठक के बाद सभी डॉक्टर लघु सचिवालय पहुंचे और मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम जगनिवास को ज्ञापन सौंपा। इस मौके पर प्रेजीडेंट डाॅ. प्रेम पुनहानी, डाॅ. श्रवण बंसल, डाॅ. ज्योति मलिक, डाॅ. आरजी राठी, डाॅ. मनीष शर्मा, डाॅ. संतोष, डाॅ. अर्चना जायसवाल, डाॅ. गुलशन, डाॅ. डीएन राणा, डाॅ. सरोज डा. राजबाला आदि मौजूद रहे। 

{निजी डॉक्टर क्लीनिकल स्टेब्लिशमेंट एक्ट का कर रहे हैं विरोध 

डॉक्टर बोले- ये एक्ट थोपा जा रहा, इसकी वजह से छोटे अस्पताल हो जाएंगे बंद 

एक्ट लागू हुआ तो कोई भी अस्पताल नहीं चल सकता: डा. गर्ग 

झज्जरआईएमए के अध्यक्ष डाॅ. राकेश गर्ग ने कहा कि सरकार द्वारा लागू किया जा रहा क्लीनिकल एक्ट लागू हुआ तो कोई भी निजी अस्पताल रन नहीं कर सकता। ये सभी बंद हो जाएंगे। डाॅ. गर्ग ने बताया कि अभी छोटे अस्पताल 100 रुपए की फीस में मरीजों को परामर्श देकर दवाएं तक दे देते है, लेकिन अगर एक्ट लागू हुआ तो छोटे अस्पतालों की फीस बढ़ जाएगी। आज जो आपरेशन हम 15-15 हजार रुपए में कर देते हैं उनकी कीमत एक लाख तक पहुंच जाएगी। कायदे से ये हड़ताल हमने आम लोगों की भलाई के लिए की थी। ऐसे मरीज जिनका मेडिकल क्लेम नहीं है, वो सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे। ये सही है कि हड़ताल का आंशिक रूप से असर पड़ा। मरीजों को पहले ही पता था कि हड़ताल होनी है, लिहाजा सामान्य ओपीडी में मरीज नहीं आए। जबकि इमरजेंसी केे मरीज अन्य अस्पताल जो नीमा से संबंधित थे उसमें चले गए।