# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
NRHM की हड़ताल खत्म, खुशी में नाचते-गाते रहे कर्मचारी

पलवल : पिछले नौ दिनों से हड़ताल पर रहे एनआरएचएम कर्मचारियों की हड़ताल शुक्रवार को खत्म हो गई। मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा एनआरएचएम कर्मचारियों की मांगों को मानने के बाद कर्मचारियों ने हड़ताल खत्म कर शुक्रवार को काम पर लौट आए। मुख्यमंत्री द्वारा कर्मचारियों की मांग मानने के बाद कर्मचारी इतने खुश थे कि शुक्रवार को हड़ताल खत्म करने के बाद भी काम पर नहीं लौटे। शुक्रवार को पूरा दिन एनआरएचएम कर्मचारियों ने मांगे माने जाने के बाद अपनी खुशी का इजहार नाच-गाकर किया।

गौरतलब है कि पिछले नौ दिनों से एनआरएचएम कर्मचारी अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर थे। कर्मचारियों की हड़ताल के बाद सरकारी अस्पतालों में कामकाज पूरी तरह से ठप हो गया था। मरीज अस्पतालों में भटकते फिर रहे थे तथा एंबुलेंस सेवा भी ठप हो गई थी। कर्मचारियों की हड़ताल के बाद अस्पतालों में बिगड़ी व्यवस्था को देखते हुए 14 दिसंबर को मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने एनएचएम कर्मचारियों से बात की तथा उनकी मांगे मान ली। इसके बाद हड़ताल खत्म करने का एलान कर दिया गया।

शुक्रवार की सुबह जब कर्मचारी काम पर लौटे तो वहां पहुंचते ही उन्होंने जश्न मनाना शुरू कर दिया। अपने जश्न में वे इतना भी भूल गए कि मरीज अस्पताल में पिछले नौ दिन से धक्के खा रहे हैं। हड़ताल खत्म होने के बाद भी मरीज पूरे दिन भटकते रहे। निजी अस्पतालों के डाक्टरों की भी हड़ताल होने तथा कर्मचारियों के जश्न में होने के कारण मरीजों को परेशानी झेलनी पड़ी