# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
चिंतन शिविर में मनोहर लाल ने विकास पर हुड्डा औरचौटाला को घेरा

चंडीगढ़। हरियाणा की भाजपा सरकार के मुखिया मनोहर लाल ने चिंतन शिविर के पहले दिन न केवल अपने तीन साल के कामकाज का रिपोर्ट कार्ड पेश किया, बल्कि पिछली सरकारों पर क्षेत्रवाद और जातिवाद का आरोप लगाते हुए हुड्डा, चौटाला, बंसीलाल और भजनलाल को घेरने का कोई मौका हाथ से नहीं जाने दिया। मनोहर लाल ने अपनी सरकार के अब तक के कार्यकाल को सफल बताते हुए इसका श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दिया है।

परवाणु के टिंबर ट्रेल में मिजोरम के पूर्व राज्यपाल एआर कोहली की मौजूदगी में मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार के अहम फैसलों की भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि हमने तीन सालों में न केवल राजनीतिक वातावरण बदला, बल्कि पूरे हरियाणा को एक इकाई मानकर विकास कराया। सभी 90 विधानसभा क्षेत्रों में समान विकास हुए। कहीं कहीं तो विपक्ष के विधायकों के क्षेत्रों में सत्ता पक्ष के विधायकों से ज्यादा काम हुए हैैं।

पूर्व मुख्यमंत्रियों पर हमला बोलते हुए मनोहर लाल ने कहा कि पहले के सीएम हिसार (भजनलाल), भिवानी (बंसीलाल), सिरसा (ओमप्रकाश चौटाला) और रोहतक (भूपेंद्र सिंह हुड्डा) तक ही सोचते रहे, लेकिन हमने पूरे प्रदेश को अपना समझते हुए समान काम किए। केएमपी सात सालों से लंबित था, मगर हमने इसे तैयार कराया। प्रधानमंत्री के निर्देश पर पीएनडीटी एक्ट सख्ती से लागू किया। नतीजा 930 लिंग अनुपात हो गया।

गन्नौर मंडी और हिसार एयरपोर्ट के उदाहरण देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि राजनीतिक लाभ से ऊपर उठकर निर्णय लेना समय की जरूरत है। उन्होंने कहा कि पहले लोगों में बिजली के बिल भरने की आदत नहीं थी, लेकिन अब लोग बिल भी भरने लगे और लाइन लास भी कम हो रहे। यह राजनीतिक इच्छा शक्ति से संभव हुआ है। मुख्य सचिव डीएस ढेसी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रमों के वृत चित्र शिविर में दिखाए।