News Description
बच्चों ने टिड्डी तथा चींटी की कहानी पर आधारित परिश्रम व त्याग की झलक दिखाई

करनाल : दिल्ली पब्लिक स्कूल में फ्रेंच भाषा पर आधारित प्रार्थना-सभा का आयोजन किया गया। जिसमें फ्रेंच विषय पढ़ने वाले छात्रों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। ईशु के जन्म से संबंधित विभिन्न बातों से अवगत करवाया गया। जीवन के प्रति सही मार्ग को अपनाते हुए, एक-दूसरे से खुशियां बांटते हुए, अपने जीवन की सार्थकता को सिद्ध करने हेतू विद्यार्थियों को प्रेरित किया गया। काव्य-वाचन के द्वारा दो छात्रों ने एक-दूसरे से वार्तालाप करते हुए बताया कि हमें जीवन में अनेक लोग मिलते हैं, जो हमें जाने-अंजाने में बहुत कुछ जिंदगी के मकसद सिखा जाते हैं। हमें आपस में एक-दूसरे का सम्मान करना चाहिए, क्योंकि आपसी बातचीत से किसी भी समस्या का समाधान किया जा सकता है।

लघु-नाटिका के माध्यम से विद्यार्थियों ने टिड्डी तथा चींटी की कहानी पर आधारित परिश्रम व त्याग की झलक दिखाई। जिसमें निरंतर गतिशील रहने वाली छोटी-सी चींटी की कड़ी मेहनत से यह सबक सीखा कि हमें आने वाले कठिन समय या मुसीबत के दौरान स्वयं को सुरक्षित रखने के लिए बहुत-सी ची•ाों को संरक्षित करके अवश्य रखना चाहिए ताकि किसी के सामने हाथ ना फैलाने पड़े। विद्यार्थियों को समय के सदुपयोग-संबंधी अनेक जानकारियां देते हुए आज की प्रार्थना-सभा को समापन की ओर ले जाया गया। विद्यार्थियों को बताया गया कि इलैक्ट्रॉनिक चीजें जैसे कि ई-बुक, आई पैड आदि अनेक चीजें दिन प्रति दिन तैयार की जा रही हैं जिन्हें शिक्षक वर्ग शिक्षा के क्षेत्र में भी प्रयोग कर रहा है। इनके कारण बच्चों की रूचि भी शिक्षा में बढ़ रही है और उन्हें प्रेरणा भी मिल रही है परन्तु हमें इनका प्रयोग सोच-समझकर व समयानुसार ही करना चाहिए तभी इनकी सार्थकता है।