# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
बॉर्डर की सुरक्षा करती दिखेंगी ये लड़कियां, कभी घर से निकलने पर थी मनाहीलक्ष्मी : घरवाले कहते थे ओ

हिसार.मंगाली की 4 बेटियों ने खेल प्रतिभा के दम पर खुद की काबिलियत को साबित कर दिखाया है। चारों का स्पोर्ट्स कोटे से सशस्त्र सीमा सुरक्षा बल (एसएसबी) में सिलेक्शन हुआ है। संभवत: यह पहला ऐसा मौका जब गांव की चार बेटियाें का एक साथ सिलेक्शन हुआ हो। अंजु, सुलोचना और लक्ष्मी ने बातचीत में कहा कि खेल शुरू करने से पहले सब यह बोलते थे कि छोरियां नै घर तै बाहर कोन्या काढैं, तब बहुत समझाया। इसमें उनकी कोच सुखविंदर ने भी काफी मदद की। अब इन्हीं छोरियों पर गांव नाज करने लगा है।लक्ष्मी : घरवाले कहते थे ओपन से पढ़ाई करो कोच ने समझाया तो माने

- लक्ष्मी बताती हैं कि घर में एक ट्रेंड चला आया है कि लड़कियां घर से बाहर जाकर क्या पढ़ेंगी। जब 12वीं के बाद पिता ने कहा कि ओपन से आगे की पढ़ाई कर लो तब बड़ा डर लगा।

- खेल के साथ भी ऐसे ही विचार थे। मगर हमारी कोच सुखविंदर कौर ने घर पर समझाया तो पिता ने खेलने की परमिशन दे दी। पहले फुटबॉल खेली, अधिक अच्छा नहीं कर पाई फिर कॉलेज में दूसरे साथियों को तीरंदाजी करते देखा और शुरू कर दी तैयारी।