News Description
बिना अध्यापकों का चल रहा स्कूल, अधिकारियों से गुहार लगा चुके ग्रामीण

तावडू : उपमंडल के गांव गोयला के राजकीय माध्यमिक विद्यालय में अध्यापकों की कमी के चलते ग्रामीणों में भारी रोष है। इसको लेकर ग्रामीण व गांव के सरपंच तक अधिकारियों के यहां कई बार गुहार लगा चुके हैं, लेकिन उनकी अभी तक किसी ने एक न सुनीस्कूल में 268 छात्र-छात्राएं हैं, जिनमें 134 छात्राएं व 134 छात्र हैं। सत्र पूरा होने जा रहा लेकिन बिना अध्यापकों के छात्र किस तरह परीक्षा की तैयारी कर पाएंगे, यह समझ से परे है। सरपंच नरेंद्र टोकस,एसएमसी सदस्य जुहरूद्दीन,पूर्व सरपंच हाकम,पूर्व सरपंच अलीशेर,यासीन नंबरदार, जुम्मेखां का कहना है कि जब से सत्र आरंभ हुआ तभी से यहां गणित,अंग्रेजी, संस्कृत, ¨हदी व ड्राइंग के अध्यापक नहीं हैं। फिर इन विषयों की तैयारी के बिना छात्र कैसे परीक्षा दे पाएंगे। ग्रामीणों ने बताया कि साथ लगते गांव सैनीपुरा में छात्र कम अध्यापक ज्यादा हैं, जबकि गणित व अंग्रेजी का वहां एक अध्यापक अतिरिक्त भी है। उन्होंने मांग करते हुए कहा उक्त अध्यापक को भी गोयला गांव में स्कूल में डेपुटेशन पर लगाया जा सकता है। इसके अलावा एक-दो अध्यापकों की और व्यवस्था की जाए। उनका कहना है कि वैसे तो स्कूल की हर दीवार पर 'सब पढ़े-आगे बढ़े' चस्पा कर रखा है लेकिन इस व्यवस्था से तो सरकार का यह स्लोगन कोरा दिखावा ही साबित हो रहा है