# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
दो साल के बकाया कार्यकाल को और बेहतर बनाने पर होगा मंथन : बराला

हरियाणा की मनोहर लाल सरकार 15 से 17 दिसंबर तीन दिन तक हिमाचल प्रदेश के परवाणु में ¨टबर ट्रेल में राज्य की जनता को सुशासन देने के लिए मंथन करेगी। तीन साल का कार्यकाल पूरा करने के बाद भाजपा सरकार को मंथन की क्यों जरूरत पड़ी, सरकार का यह मंथन शिविर विपक्ष के निशाने पर क्यों है और हरियाणा सरकार के कामकाज से संगठन कितना संतुष्ट है, इन सवालों को लेकर हरियाणा प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष सुभाष बराला से दैनिक जागरण के राज्य ब्यूरो के विशेष संवाददाता बिजेंद्र बंसल ने बृहस्पतिवार नई दिल्ली स्थित हरियाणा भवन में विस्तृत बातचीत की, प्रस्तुत है, उनसे हुई बातचीत के प्रमुख अंश:

-मनोहर सरकार को तीन साल बाद मंथन शिविर की जरूरत क्यों पड़ी?

-देखिए, मुख्यमंत्री मनोहर लाल के नेतृत्व में राज्य सरकार ने पिछले तीन साल में बेहतर काम किया है। अब सरकार के दो साल बकाया हैं, इनमें सरकार और बेहतर काम कैसे करे, किन योजनाओं पर जमीनी स्तर तक पहुंचाने में खामी रह गई हैं और उन्हें कैसे दूर किया जा सकता है, इसके लिए यह मंथन शिविर है। मैं समझता हूं कि इस मंथन शिविर के बाद सरकार प्रदेश की जनता को और बेहतर रिजल्ट देगी।

-विपक्ष इस शिविर को सीधे तौर निशाने पर ले रहा है, क्यों?

-राज्य में विपक्ष को मैं केवल विरोध करने वालों की संज्ञा दे चुका हूं। विपक्ष सकारात्मक रुख से किसी भी काम को नहीं देखता, जबकि यह लोकतंत्र में जरूरी है।

-शिविर में होने वाले खर्च पर भी विपक्ष सवाल खड़े कर रहा है?

-शिविर में कोई फिजूलखर्ची नहीं हो रही है। यदि खर्च की बात करें तो राज्य सरकार ने पिछले तीन साल के कार्यकाल में विभिन्न विभागों में अनावश्यक खर्च में कटौती कराकर प्रदेश का आर्थिक भला किया है। वैसे भी मनोहर सरकार को तो एक-एक पैसे की बचत के लिए जाना जाता है।

-सरकार को सभी जिलों में नियुक्त सुशासन सहयोगियों क्या फीडबैक मिल रहा है?

सरकार के पास जमीनी स्तर के फीडबैक लेने के लिए जहां सबसे पहले तो पार्टी के कार्यकर्ता हैं वहीं सुशासन सहयोगियों ने भी काफी कुछ ऐसा फीडबैक दिया है जिसे कांग्रेस द्वारा बनाई भ्रष्टाचारी व्यवस्था सुधारने में भाजपा को मदद मिल रही है। भाजपा सरकार सक्षम योजना के तहत युवाओं से भी फीडबैक ले रही है। इनके आधार पर कुछ और सुधारवादी कदम उठाने के लिए सरकार इस मंथन बैठक में वरिष्ठ अधिकारियों से चर्चा करेगी।

-उकलाना में छह वर्षीय बच्ची के साथ द¨रदगी करने वाले अपराधियों को पकड़ने में सरकार नाकाम क्यों हो रही है?

-ऐसा नहीं है, सरकार ने इस मामले में गहनता से जांच करा रही है, अगले दो-तीन दिनों में इस जांच की विस्तृत रिपोर्ट सामने आ जाएगी। बच्ची के परिजनों को न्याय मिलेगा।

-प्रदेश भाजपा संगठन सरकार से कितना संतुष्ट है?

-प्रदेश संगठन मनोहर सरकार के कामकाज से सौ फीसद संतुष्ट है। भाजपा के काडरबेस कार्यकर्ता जिस तरह की सरकार हरियाणा में चाहते थे, वैसी सरकार मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने यहां दी है। किसी व्यक्ति, क्षेत्र की बजाए इस सरकार ने पूरे प्रदेश को फायदा देने वाले नीतिगत निर्णय लिए हैं। 2014 के चुनाव में आम जनता की यही सबसे बड़ी मांग थी।