News Description
उकलाना में बच्ची से दरिंदगी मामला, हत्यारों की गिरफ्तारी होने से जन संघर्ष मंच ने शहर में रोष मार

जनसंघर्षमंचके सदस्यों ने उकलान मंडी हिसार में पांच साल की बच्ची से हुई दरिंदगी के बाद हत्या मामले में आरोपियों की गिरफ्तारी होने पर बुधवार को लघु सचिवालय तक रोष मार्च निकाला। साथ ही सीएम के नाम मांगों का ज्ञापन नायब तहसीलदार परमिंद्र सिंह को सौंप हत्यारों की जल्द से जल्द गिरफ्तारी सख्त सजा की मांग की। 

मंच के सदस्यों ने प्रदेश में लचर कानून व्यवस्था का आरोप लगा प्रदेश सरकार पुलिस प्रशासन के खिलाफ भी नारेबाजी की। मंच की प्रदेश महासचिव सुरेश कुमारी ने कहा कि प्रदेश में कानून व्यवस्था का इस कद्र दिवालिया पीटा हुआ है कि पांच साल की बच्ची से दरिंदगी करने वाले वहशियों का पांच दिन बीतने के बावजूद पुलिस पता नहीं लगा पाई। आरोप लगाया कि पुलिस के भ्रष्टाचार संवेदनहीनता के कारण अकसर इस तरह के जघन्य अपराध करने वाले सबूतों के अभाव में कोर्ट से भी बरी हो जाते हैं। जिससे उनके हौंसले इस तरह के आपराधिक मामलों को लेकर बढ़ते जा रहे हैं। मंच सदस्या उषा कुमारी चंद्र रेखा ने कहा कि निर्भय कांड के बाद देशभर में महिलाओं बच्चियों पर इस तरह के अपराध बढ़ते जा रहे हैं। स्कूल-गली या अन्य कहीं भी महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। पीडि़त परिवार को मिले 25 लाख सहायता मंच के जिला प्रधान संसारचंद ने कहा कि उकलाना मंडी हिसार में पांच साल की बच्ची से दरिंदगी करने वाले दुष्कर्मी हत्यारों को जल्द से जल्द गिरफ्तार कर उन्हें सख्त सजा दी जाए, पीडि़त परिवार को 25 लाख रुपए की आर्थिक सहायता दी जाए, परिवार को रहने के लिए पक्के मकान की व्यवस्था की जाए प्रदेश में महिला सुरक्षा को लेकर पुख्ता इंतजाम किए जाएं। 


रेलवे द्वारा झुग्गी झोपड़ी वालों को उठाने पर जताई आपत्ति वहीं इससे पहले छोटे स्टेशन के पास झुग्गी झोपड़ी वालों को उठाने के लिए रेलवे की ओर से दिया गया 15 दिसंबर तक के अल्टीमेट पर भी जनसंघर्ष मंच के नेतृत्व में झोपडिय़ों में रहने वाली महिलाओं ने रोष जताया। साथ ही सर्दी के मौसम में उक्त झुग्गी-झोपडिय़ों को उजाड़ने को पूरी तरह गलत बता। इन झुग्गी-झोपडिय़ों में रह रहे 50 से अधिक परिवारों के लिए स्थाई जगह का प्रबंध करवा उनके बसेरे की व्यवस्था की जाए
।