News Description
प्रदर्शन का अनोखा तरीका, भीख मांगेंगे और बूट पॉलिश करेंगे NHM कर्मी

सोनीपत : नागरिक अस्पताल परिसर में बर्खास्त होने के बाद भी आठवें दिन एनएचएम कर्मचारियों की हड़ताल जारी रही। इस दौरान कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। साथ ही कई यूनियन व संगठनों ने कर्मचारियों का समर्थन किया। इतना ही नहीं कर्मचारियों ने सरकार को जगाने के लिए आंदोलन की बजाय धरने पर ही बैठकर मांगों को लागू कराने की बात कही। सरकार को जगाने के लिए एनएचएम कर्मी अब भीख मांगने के अलावा बूट पॉलिश कर आंदोलन को आगे बढ़ाएंगे।

जिले के एनएचएम कर्मचारी 5 दिसंबर से अपनी मांगों को लेकर हड़ताल कर रहे हैं। एनएचएम के तहत 190 कर्मचारी हड़ताल कर अस्पताल परिसर में धरना दिए हुए हैं। इन कर्मचारियों की हड़ताल से सबसे ज्यादा असर लेबर रूम में हुआ है। लेबर रूम में जहां हर रोज करीब 20 डिलीवरी होने से मरीजों को पूर्ण चिकित्सा सुविधा नहीं मिल रही है, वहीं एंबुलेंस सेवा भी प्रभावित हैं। ऐसे में प्रशासन की ओर से पहले नियमित स्टाफ नर्स की ड्यूटी लगाने और अब नई नर्सों की ड्यूटी लगाने का दावा किया जा रहा है।

वहीं एनएचएम कर्मचारी संघ के नेता ओमपाल बुधवार को धरना स्थल पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि सरकार के बर्खास्त करने से कर्मचारियों को कोई फर्क नहीं पड़ने वाला है। सरकार केवल कागजों को काले करने में लगी हुई है। जब तक सरकार उनकी मांगे पूरी नहीं करती यह हड़ताल जारी रहेगी। हड़ताल के लिए नियमित कर्मचारियों से संपर्क बनाया जा रहा है। आगामी दो या तीन दिन में कोई अहम फैसला नहीं लिया तो वह भी उनके साथ हड़ताल में शामिल हो सकते हैं। इसके बाद सरकार को जगाने के लिए अन्य जिलों की तरह यहां भी भीख मांगी जाएगी। फिर उन्हीं पैसों से केले बेचे जाएंगे साथ ही बूट पॉलिश करने का अभियान चलाया जाएगा। उन्होंने कहा कि उनकी कोई मंशा नहीं है कि वह सरकार से आमने-सामने की लड़ाई लड़े, बल्कि वह धरने पर ही बैठकर मांगों को लागू कराना चाहते हैं।