News Description
आद्या को इंसाफ: एसआइटी कल से कर सकती है डॉक्टरों से पूछताछ

गुरुग्राम: डेंगू से पीड़ित सात साल की बच्ची आद्या की मौत और गुरुग्राम फोर्टिस अस्पताल द्वारा 16 लाख रुपये का बिल दिए जाने के मामले में एसआइटी शुक्रवार से डॉक्टरों से लेकर प्रबंधन तक के लोगों से पूछताछ शुरू कर सकती है। पूछताछ के दौरान जिनके नाम सामने आएंगे, सभी के नाम एफआइआर में जोड़े जाएंगे। इससे पहले बुधवार को आद्या के पिता के बयान दर्ज कर लिए गए हैं।

दिल्ली के द्वारका निवासी जयंत ¨सह ने 31 अगस्त को फोर्टिस अस्पताल में अपनी बेटी आद्या को डेंगू की इलाज के लिए दाखिल कराया था। शिकायत है कि इलाज के दौरान उसकी हालत ठीक होने की बजाय बिगड़ती चली गई, लेकिन डाक्टरों ने गंभीरता से ध्यान नहीं दिया। 14 सितंबर को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। उसी दिन रात में बच्ची की मौत हो गई। इलाज के दौरान 16 लाख रुपये जमा कराए गए।

जयंत ¨सह की शिकायत पर सुशांत लोक थाना पुलिस ने केवल एक डाक्टर के खिलाफ मामला दर्ज किया था। ¨सह ने जब विरोध दर्ज कराया तो मामले की जांच के लिए एसीपी डीएलएफ अनिल यादव के नेतृत्व में एसआइटी गठित कर दी गई। पिता का आरोप है कि उनकी बेटी के लिए एक या दो डॉक्टर जिम्मेदार नहीं है बल्कि नीचे से लेकर ऊपर तक के प्रबंधन के लोग जिम्मेदार हैं। सभी के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए ताकि उनकी बेटी की तरह किसी और का बच्चा दुनिया से न जाए।

मामले से जुड़े जितने भी डॉक्टर एवं प्रबंधन पक्ष के लोग हैं, सभी से पूछताछ की जाएगी। जिसकी भी भूमिका नजर आएगी, सभी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। शुक्रवार से पूछताछ शुरू हो सकती है। इससे पहले जो कार्यवाही होनी चाहिए, की जा रही है।