News Description
पावर हाउस में फटा बाक्स, तीन गांवों में ब्लैक आउट

 समालखा: ठंड के शुरू होते ही बिजली के अघोषित कट उपभोक्ताओं को परेशान करने लगे हैं। सोमवार को भी बूंदाबांदी के बीच 33 केवी छदिया पावर हाउस में बाक्स फटने पर उससे जुड़े तीनों गांव में ब्लैक आउट छाया रहा। मंगलवार दोपहर ठीक होने के बाद बिजली सप्लाई बहाल हो चुकी। तब जाकर गांव वासियों ने राहत की सांस ली। वहीं कस्बे में भी कई जगहों पर रात भर बिजली सप्लाई ठप्प होने पर लोगों ने निगम कार्यालय पहुंचकर रोष जताया।

किवाना वासी संजय, लहणा सिंह, राजेंद्र नफे सिंह, जयपाल, कंवर सिंह, प्रमोद ने बताया कि उनका गांव छदिया 33 केवी पावर हाउस से जुड़ा हुआ है, जिससे उनके गांव के अलावा चुलकाना व छदिया को भी बिजली सप्लाई होती है। समालखा सब डिवीजन में जगमग योजना के तहत सबसे पहले उन्हीं के गांव में बिजली मीटर बाहर लगाए गए थे। तब उन्हें अठारह घंटे बिजली सप्लाई देने का दावा किया गया था लेकिन अब बारह घंटे भी बिजली मुश्किल से मिल पा रही है। कभी तो पूरी रात अंधेरे में रहना पड़ता है। उन्होंने बताया कि सोमवार को दोपहर बाद जैसे ही हल्की बुंदाबांदी शुरू हुई तो कुछ समय बाद ही बिजली गुल हो गई और रात भर ही नहीं, बल्कि मंगलवार को दोपहर तक चालू हो सकी। पावर हाउस से जुड़े तीनों गांवों में ब्लैक आउट छाया रहा।

उन्होंने कहा कि बिन बिजली उनके रोजमर्रा के काम ही प्रभावित नहीं हो रहे है, बल्कि बच्चों की पढ़ाई तक पर भी असर पड़ रहा है। पीने के पानी तक को लेकर भटकना पड़ता है। गांव वासियों का कहना है कि जब भी बिजली समस्या को लेकर निगम कर्मियों के पास या पावर हाउस में फोन करते हैं तो कोई संतोषजनक जवाब नही मिलता और कई बार तो फोन उठाते तक नहीं हैं।

मौसम में आए बदलाव के बाद बिजली कट ज्यादा दिखे। सोमवार रात के साथ मंगलवार को दिन में के समय जीटी, सिटी व जयभारत फीडर पर कट लगे रहे, जिस कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। मंगलवार को निगम कार्यालय पहुंची महिला कविता, रामरती, संतोष, निर्मल, कांता, कमला, बीरमती ने बताया कि वो सभी पठान मुहल्ले की रहने वाली है। रात के समय उनके मुहल्ले की बिजली गुल हुई थी लेकिन अभी तक नहीं आई।