News Description
धारा 144 को ठेंगा, चौथे दिन भी बेलगाम घूमे प्रतिबंधित वाहन

अंबाला शहर : जिला प्रशासन द्वारा सुबह 8 से रात 8 बजे तक शहर में बड़े वाहनों की एंट्री प्रतिबंधित करने के लिए लगाई गई धारा 144 को चौथे दिन भी ठेंगा दिखाया गया। जिला व पुलिस प्रशासन द्वारा निर्धारित स्थानों पर नो एंट्री के साइन बोर्ड न लगाने के कारण प्रतिबंधित वाहन शहर में बेलगाम घूमे, ट्रेफिक व्यवस्था बाधित हुई। यातायात व्यवस्था को दुरुस्त करने व सड़क हादसों में कमी लाने के लिए यह योजना बनाई गई है। नो-एंट्री के साइन बोर्ड न दिखाई देने से प्रतिबंधित वाहन चालकों को भी काफी परेशानी झेलनी पड़ी। शहर में घुसने के बाद वे न तो इधर के रहे, न ही उधर के। बुधवार पुलिस ने केवल नाके लगाकर आदेशों व व्यवस्था को क्रियान्वित करने की कोशिश की लेकिन पूरी तरह कामयाब नहीं हो पाए। मंगलवार डीसी आफिस से आदेश मिलने के बाद पुलिस ने साइन बोर्ड बनाने के आर्डर दिए हैं, बृहस्पतिवार देर शाम तक नो-एंट्री के बोर्ड निर्धारित स्थलों पर लगवाने की उम्मीद जताई है। इस व्यवस्था में केवल सरकारी वाहनों को प्रवेश की इजाजत है, जबकि प्रतिबंधित वाहनों को भी सुबह 10 से 12 तथा शाम 4 से साढ़े 5 बजे तक शहर में प्रवेश करने दिया जाएगा। करीब आठ माह पूर्व भी यही योजना लागू की गई थी जोकि प्रशासन, पुलिस व नागरिकों में बेहतर तालमेल न होने के कारण पूरी तरह फ्लाप शो साबित हुई थी।

यूं चला घटनाक्रम

शनिवार डीसी शरणदीप कौर ने शहर में दिन के समय भारी वाहनों की प्रतिबंध लगाते हुए धारा 144 लागू कर दी थी। रविवार को लोग योजना के क्रियान्वित होने की बाह जोह रहे थे लेकिन किसी प्रकार की हलचल नजर नहीं आई। पूछने पर पता चला कि पुलिस के पास डीसी के आदेश पहुंचे ही नहीं। ऐसे में प्रतिबंधित वाहन बेरोक-टोक घूमे, किसी ने उन्हें रोकने की जहमत नहीं उठाई। मंगलवार को आर्डर पहुंचते ही पुलिस सतर्क हो गई। क्योंकि नो एंट्री के बोर्ड तैयार नहीं थे, इसलिए कालका चौक, जंडली पुल तथा नसीरपुर के पास नाके लगाकर प्रतिबंधित वाहन रोक दिए। बावजूद इसके कई वाहन चोर रास्तों से शहर में एंट्री कर गए। इनमें कुछ ट्रांसपोर्टरों की भी गाड़ियां थी जोक मंजी साहिब गुरुद्वारे, घास मंडी, हरी पेलेस रोड के रास्ते शहर में घुसी तथा कपड़ा मार्केट में सामान उतारा। यातायात मुलाजिमों की कमी भी व्यवस्था को बनाए रखने में बाधा बनी रही। पुलिस ने नो एंट्री के बोर्ड तैयार कराने के आर्डर दिए हैं जोकि सुबह मिलने की उम्मीद है।आदेशों के अनुसार सुबह से शाम तक 12 घंटे में केवल साढ़े 3 घंटे की छूट है। इसके अलावा हैफेड व अन्य सरकारी एजेंसियां के लिए ये आदेश मान्य नहीं हैं। बकायदा उन्हें स्टीकर व पास जारी किया जाएगा। उसे लगाकर ही शहर में प्रवेश करने दिया जाएगा।

यू है रूट प्लान

आदेशों के अनुसार कालका चौक, जंडली पुल, मोहड़ा तथा जनसुई हैड पर नाके लगाकर नो एंट्री के साइन बोर्ड लगाए जाएंगे। नो एंट्री बोर्ड पर आवागमन का समय तथा रास्तों बारे संकेत लिखे जाएंगे। जो आदेशों की अवहेलना करेगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी, चालान काटने से साथ साथ वाहन जब्त भी किए जा सकते हैं।

----------

बृहस्पतिवार लग जाएंगे नो एंट्री के साइन बोर्ड : एसएचओ ट्रेफिक

ट्रैफिक एसएचओ सोमेश कुमार के अनुसार मंगलवार को आदेश मिलने के बाद बुधवार सुबह निर्धारित स्थानों पर नाके लगाकर प्रतिबंधित वाहनों को शहर में प्रवेश नहीं करने दिया गया। देर शाम तक साइन बोर्ड मिल जाएंगे, जिन्हें बृहस्पतिवार लगवा दिया जाएगा। अधिकारियों के निर्देशानुसार कार्रवाई की जाएगी। हर हाल में यातायात व्यवस्था को कायम रखा जाएगा।