News Description
छावनी नागरिक अस्पताल में अल्ट्रासाउंड फिर शुरू

 अंबाला : छावनी नागरिक अस्पताल सं रेडियोलाजिस्ट के डेपुटेशन बाद करीब एक सप्ताह तक अल्ट्रासाउंड केंद्र पर लटका ताला आखिरकार बुधवार को खुल गया। सिविल सर्जन द्वारा आनन फानन में की डॉक्टर की डेपुटेशन को रद करने के बाद रेडियोलाजिस्ट ने बुधवार को एक बार फिर से छावनी में अपनी ड्यूटी संभाल ली। पहले दिन करीब 40 मरीजों ने स्वास्थ्य विभाग की रियायती अल्ट्रासाउंड सुविधा का लाभ लिया। कई दिनों से अल्ट्रासाउंड के लिए मारे मारे फिर रहे मरीजों के लिए यह बड़ी राहत थी। डॉक्टर के डेपुटेशन के बाद मरीजों को पेश आ रही परेशानी के मुद्दे को दैनिक जागरण ने प्रमुखता से उठाया था। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग को आनन फानन में लिए फैसले को वापस लेना पड़ा।

काबिलेगौर है कि रेडियोलाजिस्ट का 8 दिसंबर को अंबाला से नारायाणगढ़ डेपुटेशन कर दिया गया था। रेडियोलाजिस्ट को मंत्री के नजदीकी व उनके साथ आए एक पुलिस कर्मी से सामान्य मरीजों की तरह पेश आना महंगा पड़ गया था। स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं मिलने से खफा हुए इन लोगों ने डॉक्टर के बर्ताव को आधार बनाकर शिकायत कर दी थी। रोजाना करीब 50 मरीजों का अल्ट्रासाउंड करने वाले इस रेडियोलाजिस्ट का आनन फानन में डेपुटेशन करने के बाद बिना कोई इंतजाम किए मरीजों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया था। नारायणगढ़ स्थित अल्ट्रासाउंड मशीन पर रेडियोलाजिस्ट के रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया में लगने वाले वक्त के चलते वहां डॉक्टर को खाली बैठना पड़ा और छावनी में मरीज परेशान होते रहे। दैनिक जागरण ने मरीजों की इस पीड़ा को प्रमुखता से उठाया जिसके चलते स्वास्थ्य विभाग द्वारा रेडियोलाजिस्ट का डेपुटेशन रद कर दोबारा से छावनी में तैनात करना पड़ा।