News Description
जिले में दुबई की तर्ज पर बनेगा मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक हब

जिले में दिल्ली-मुंबई फ्रेट कॉरिडोर के साथ लगभग 1200 एकड़ में बनने वाले मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक हब के लिए दुबई की शर्फ कंपनी के प्रतिनिधियों ने आज अधिकारियों को साथ लेकर तलोट व घाटासेर के आस-पास साइट का दौरा किया तथा इस प्रोजेक्ट के आसपास रेल व रोड़ कनेक्टिविटी का जायजा लिया। 
जिले में बनने वाले इस सबसे बड़े प्रोजेक्ट के लिए एचएसआईडीसी व डीएमआईसीडीसी को दो फेज में बनाएगी। पहले फेज में लगभग 886 एकड़ जमीन की जरूरत होगी तथा दूसरे फेज में 300 एकड़ के आसपास की जमीन की जरूरत पड़ेगी। पहले फेज के लिए जमीन लगभग पूरी हो चुकी है। अब तक किसानों से लगभग 833 एकड़ जमीन खरीदी जा चुकी है। शेष जमीन भी जल्द खरीदी जाएगी। इसके लिए किसानों से एग्रीमेंट किया जा रहा है। 
हरियाणा स्टेट इंडस्ट्रीज एवं इंफ्रास्ट्रक्चर डवलेपमेंट कोरपोरेशन व दिल्ली-मुंबई इंडस्ट्रीयल कॉरिडोर डेवलेपमेंट कॉरपोरेशन के संयुक्त तत्वावधान में तैयार होने वाले इस प्रोजेक्ट के संबंध में विगत दिनों मुख्यमंत्री ने दुबई की  कंपनियों को निवेश का न्यौता दिया था। उसी कड़ी में आज एक कंपनी के प्रतिनिधियों ने मौके का जायजा लिया। इस प्रोजेक्ट के लिए कई विदेशी कंपनियां अपना रुझान दिखा रही हैं। 
इस मौके पर सीनियर टाउन प्लानर रामकुमार, सीनियर मैनेजर एस्टेट एसएस लांबा व एसिस्टैंट टाउन प्लानर प्रदीप कुमार के अलावा अन्य अधिकारी मौजूद थे।
 इस प्रोजेक्ट के बीच में कुछ ऐसे किसान हैं जो अपनी जमीन नहीं बेचना चाहते। अब इस जमीन के बीच में पडऩे वाली जमीन के लिए अब राज्य सरकार द हरियाणा कनसोलिडेटिड प्रोजेक्ट लैंड (विशेष प्रावधान) एक्ट 2017 के तहत किसानों को आस-पास के गांवों में जमीन मुहैया कराएगी। सरकार ने किसी भी प्रोजेक्ट में बीच में पडऩे वाली ऐसी जमीन जिसको किसान नहीं बेचना चाहते, उसके लिए यह एक्ट बनाया है। इस एक्ट के तहत अगर उसी रेवेन्यू एस्टेट में जमीन उपलब्ध नहीं होती है तो दूसरे रेवेन्यू एस्टेट में भी किसानों को उतनी ही जमीन उपलब्ध कराती है। इस प्रक्रिया को सरकार जल्द ही शुरू करेगी। 
 
फ्रेट कॉरिडोर के साथ बनने वाले मल्टी मॉडल लॉजिस्टक हब के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग 148 बी तक 60 मीटर चौड़ी सड़क बनाने के लिए 50.40 एकड़ जमीन रास्ते के लिए प्रस्तावित रखी गई है। इसके अलावा सरकार ने नारनौल का पूर्वी बाइपास भी इतनी ही चौड़ाई का बनाने की योजना भी तैयार की हुई है। 
नांगल चौधरी के विधायक डा. अभय सिंह यादव ने बताया कि जमीन खरीदने का काम लगभग पूरा हो गया है। अब जल्द ही इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू होगा। मुख्यमंत्री खुद इस प्रोजेक्ट को जल्द से जल्द सिरे चढ़ाने के लिए प्रयासरत हैं। उन्होंने बताया कि इस प्रोजेक्ट के धरातल पर आने के बाद क्षेत्र की तस्वीर व तकदीर बदल जाएगी।