# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
सुनारिया के लोगों की कमिश्नर से घर बनवाने की फरियाद

रोहतक: राजीव गांधी आवासीय योजना के अधूरे पड़े आवासों को पूरा कराने के लिए एक बार फिर लोगों ने अफसरों से गुहार लगाई। मंगलवार को वार्ड-20 स्थित सुनारिया गांव की जनता ने नगर निगम के कमिश्नर प्रदीप कुमार से गुहार लगाते हुए अधूरे आवासों का निर्माण कार्य पूरा कराने की मांग की।

यह भी कहा कि अपने घर तैयार कराने के चक्कर में हमारे ऊपर कर्जा हो गया है। यदि राहत नहीं मिली तो कर्जा जिनसे लिया है वह ब्याज सहित पैसा चुकाने की चेतावनी दे रहें। वहीं, अफसरों ने एक बार फिर से आश्वासन दिया है कि 35 करोड़ की दूसरी किश्त पाने के लिए केंद्र सरकार के पास प्रस्ताव भेजा जा चुका है। किश्त तो मंजूर हो गई है, लेकिन सरकार से रकम नहीं मिली है। बजट मिलते ही पहली व दूसरी किश्त दी जाएगी।

नगर निगम कार्यालय में सुनारिया गांव के सैकड़ों फरियादी पहुंचे। ध्यान ¨सह, ओम प्रकाश, सुरेंद्र, चांद कौर, विजय, बजीर ¨सह, श्रीनिवास, संतोष, जैन ¨सह, सुंदर, रामचंद, ममता, सुनीता, खजान ¨सह, डालचंद ने आदि ने बताया कि करीब 500 लाभार्थियों में ज्यादातर को पहली और दूसरी किश्त नहीं मिल सकी है। जबकि आवासीय योजना के तहत आवेदन तीन साल पहले किए थे। करीब ढाई साल से निर्माण कार्य चल रहा है। इनका कहना है कि पहली किश्त के तौर पर लाभार्थियों को एक लाख आठ हजार रुपये मिलते हैं, कुल तीन किश्तों पर तीन लाख 24 हजार रुपये मिलने थे।

योजना की जानकारी देते हुए कहा कि पहली किश्त नींव भरने के बाद ही मिलती है। इसलिए ज्यादातर लाभार्थियों ने जर्जर और कच्चे मकान तोड़कर नींव भरवाने का काम शुरू करा दिया, जबकि दूसरी किश्त बाउंड्री पर तो तीसरी किश्त छत का कार्य पूरा कराने पर मिलती। हालांकि अभी तक किश्तें अटकी रहीं। जबकि लाभार्थी खुले आसमान के नीचे रहने को मजबूर हो गए।