# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
एनएचएम कर्मी बर्खास्त होने से एंबुलेंस से लेकर डिलीवरी सेवाएं प्रभावित

हिसार : आखिरकार उच्चतर स्वास्थ्य विभाग ने सात दिन इंतजार के बाद मंगलवार को हड़ताल से वापस काम पर नहीं लौटने वाले 447 एनएचएम कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया। एनएचएम के जिला नोडल ऑफिसर ने अनुपस्थित कर्मियों की रिपोर्ट सीएमओ के माध्यम से जिला उपायुक्त और उच्चतर स्वास्थ्य विभाग को सौंपी थी। कैडर वाइज रिपोर्ट में दर्शाया है कि सबसे ज्यादा एएनएम, स्टाफ नर्स, एंबुलेंस स्टाफ के हड़ताल पर जाने से स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित हुई हैं। एंबुलेंस सेवा के साथ-साथ ग्रामीण इलाकों में डिलीवरी सेवा ठप हो चुकी है। इस मामले पर कड़ा संज्ञान लेते हुए मिशन डायरेक्टर एनएचएम ने पत्र जारी करके बर्खास्त के आदेश दिए हैं। इसके अलावा तुरंत प्रभाव से नई भर्ती करने के लिए कहा गया है, ताकि जल्द से जल्द प्रभावित स्वास्थ्य सेवाओं को दुरुस्त किया जा सके। बता दें कि सोमवार तक 453 कर्मचारी हड़ताल पर थे, उनमें कुछ काम पर लौट आए थे। सरकार और स्वास्थ्य विभाग की तरफ से सभी हड़ताली कर्मचारियों को काम पर लौटने का समय दिया था लेकिन महज छह ही कर्मी अपने-अपने विभागों में ज्वाइन करने पहुंचे। बाकी 447 कर्मियों को घर का रास्ता दिखा दिया गया है। इसमें दो राय नहीं कि नई भर्ती करने में समय लगेगा, तब तक स्वास्थ्य सेवाएं संभालने का जिम्मा अपर्याप्त रेगुलर स्टाफ के कंधों पर है। वहीं, सरकार का पत्र मिलते ही जिला प्रशासन ने अस्पताल परिसर के इर्द-गिर्द करीब दो किलोमीटर के दायरे में धारा 144 लगाकर धरना-प्रदर्शन पर प्रतिबंध लगा दिया है। सात दिनों से हड़ताली कर्मचारी सीएमओ कार्यालय के पास लाउड स्पीकर लगाकर सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।

....

रणनीति बनाएंगे, विज का पुतला जलाएंगे

एनएचएम कर्मचारी एसोसिएशन के जिला प्रधान जगत बिसला का कहना है कि हिसार जिले के 447 कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है। सरकार ने ऐसा करके गलत काम किया है। कई कर्मी ऐसे हैं जोकि पिछले 18 साल से काम कर रहे हैं। क्या उन्हें पक्का होने का हक नहीं है। एक साल पहले सरकार ने मांगे पूरा करने का आश्वासन दिया था। पर, वादा खिलाफी करते हुए कर्मियों को बर्खास्त कर दिया। ऐसे में सभी बर्खास्त कर्मी धरना स्थल पर एकत्रित होंगे। मांगों को पूरा करवाने के लिए कोई भी कदम उठाने के लिए तैयार हैं। धारा 144 लगाने से उनके हौसले पस्त नहीं होंगे। स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज का पुतला जलाएंगे, साथ ही आंदोलन को तेज करके रूपरेखा तैयार करेंगे। धरने पर पांच कर्मी सूचना सहायक सुनील शर्मा, एएनएम जय श्री, एलटी नीलम, ड्राइवर जोगेंद्र और नर्स पूनम सांकेतिक भूख हड़ताल पर बैठे थे।

.....

टीबी मुक्त भारत अभियान को लगा झटका

एनएचएम कर्मियों की हड़ताल और अब उन्हें बर्खास्त करने से टीबी मुक्त भारत अभियान को झटका लगा है। मैनपावर की कमी के कारण अभियान को स्थगित कर दिया है। देश को टीबी मुक्त बनाने का लक्ष्य 10 साल घटाकर वर्ष 2035 से 2025 तक कर दिया है। इसके तहत हिसार में चार दिसंबर से विशेष अभियान शुरू किया गया था जोकि 18 दिसंबर तक चलना था। इन 15 दिनों में 80 मेडिकल टीमें 2 लाख 2 हजार 716 लोगों के स्वास्थ्य की जांच करके टीबी रोगियों की पहचान करेगी। अभी तक 89823 में से 9451 लोगों का स्वास्थ्य जांचा गया, जिनमें से दो को टीबी होने की पुष्टि हुई थी। एएनएम और आशा वर्कर सहित अन्य स्टाफ एनएचएम की हड़ताल में शामिल हुआ था, जिनमें से अधिकांश बर्खास्त हुए हैं।

........

धरने पर पहुंचे इनेलो विधायक नारंग

नागरिक अस्पताल में चल रहे एनएचएम कर्मियों के धरने पर इनेलो जिला प्रधान राजेन्द्र लितानी समर्थन देने पहुंचे। उनके साथ बरवाला के विधायक वेद नारंग, महिला प्रकोष्ठ की प्रदेशाध्य्क्ष शीला भ्याण, हल्का प्रधान सजन लावट, जिला विजिलेंस एंड मॉनिट¨रग कमेटी के सदस्य अमित ग्रोवर, निर्मला कुंडू, कृष्णा खरब और निर्मला रेड्डू ने धरना स्थल पर पहुंचकर इनेलो पार्टी की ओर से अपना समर्थन दिया। धरने को सम्बोधित करते हुए जिला प्रधान राजेन्द्र लितानी ने कहा कि यह सरकार आम आदमियों के साथ कर्मचारियों के हितों को कुचलने वाली सरकार है। इनेलो इन कर्मचारियों के साथ है। इस अवसर पर नेशनल हेल्थ मिशन के कर्मचारियों ने उनसे सांसद दुष्यंत चौटाला के माध्यम से आगामी 15 दिसम्बर से शुरू हो रहे संसद सत्र में उनकी मांगों को उठाने की गुजारिश की। लितानी ने आश्वासन दिया कि वे स्वास्थ्य कर्मचारियों की इन मांगों से सांसद दुष्यन्त चौटाला को अवगत करवाएंगे, ताकि जायज मांगों को संसद में उठाने का आग्रह करेंगे। इस अवसर पर इनेलो महिला ¨वग की अध्यक्ष शीला भ्याण, सजन लावट और अमित ग्रोवर इत्यादि मौजूद रहे।