News Description
डाॅक्‍टर ने ऑपरेशन में कर दी ऐसी गलती, एक साल तक तड़पताी रही महिला

हिसार। शहर के एक निजी अस्पताल के चिकित्सक पर मरीज के परिजनों ने ऑपरेशन के दौरान ऐसी लापरवाही कर दी कि मरीज एक साल तक दर्द से तड़पता रहा। परिजनों का आरोप है कि डॉक्टर ने महिला मरीज के गुर्दे में पथरी का ऑपरेशन करने के बाद स्टंट अंदर ही छोड़ दिया। महिला एक साल तक दर्द से बेहाल होकर अस्पताल के चक्कर काटती रही। इस दौरान चिकित्सक उन्हें गुमराह करता रहा। बाद में एक अन्‍य अस्‍पताल में जांच के बाद स्‍टंट छोड़ने का पता चला तो दूसरे डॉक्‍टर ने आॅपरेशन कर इसे निकाला।

परिजनों ने चिकित्सक के खिलाफ उपायुक्त कार्यालय में जाकर शिकायत दी है। परिजनों की मांग है कि इस चिकित्सक के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए और उसका लाइसेंस रद किया जाए। परिजनों ने चेतावनी दी है कि प्रशासन ने डॉक्‍टर के खिलाफ कार्रवाई नहीं की तो वे भूख हड़ताल करेंगे।

यह भी पढ़ें: जानें अनुष्का ने शादी में निभाया लुधियाना की जसलीन से किया काैन सा वादा

महिला के बेटे गांव छान निवासी राम अवतार ने बताया कि 26 सितंबर 2016 को उसकी मां शरबती के पेट में दर्द हुआ। परिजन उन्हें लेकर शहर के एक निजी अस्पताल में पहुंचे। वहां चिकित्सक ने पथरी की पुष्टि कर ऑपरेशन कर दिया। इस दौरान डॉक्‍टर ने अंदर एक स्टंट छोड़ दिया। ऑपरेशन के बाद मरीज का हाल बेहाल ही रहा। दर्द निवारण के लिए वे एक साल तक शहर के अन्य अस्पतालों के भी चक्कर काटते रहे, लेकिन परेशानी दूर नहीं हुई। 

राम अवतार ने बताया कि एक साल बीतने के बाद 1 दिसंबर 2016 को जब उन्होंने शहर के अन्य अस्पताल में जाकर अल्ट्रासाउंड करवाया तो पेट में स्टंट होने का पता चला। इसके बाद दूसरे डाक्टर ने ऑपरेशन कर स्टंट को निकाला। इस एक साल में उन्होंने कई अस्पतालों में मरीज को दिखवाया, जिसमें करीब 30 लाख रुपये खर्च हो गए। राम अवतार ने मांग की कि डॉक्‍टर की लापरवाही के लिए उस पर कड़ी कार्रवाई की जाए और उसका लाइसेंस रद किया जाए।