# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
हड़ताल पर गए 337 कर्मचारी बर्खास्त, अस्पताल के पास धारा 144 लागू

फतेहाबाद: हड़ताल पर गए एनएचएम कर्मचारियों पर सरकार सख्त होती जा रही है। इन्हें हटाकर नए कर्मचारी रखने की प्रक्रिया शुरू हो गई है।

सिविल सर्जन कार्यालय ने मंगलवार शाम को को हड़ताल पर गए कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया। किसी भी समय स्वास्थ्य विभाग इन कर्मचारियों को हटाने की आदेश की कॉपी थमा सकता है। इसके बाद इन पदों पर नए कर्मचारी रखने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। विभाग के अधिकारियों का कहना है कि एनएचएम के कुछ कर्मचारी मंगलवार को काम पर लौट आए हैं। 18 कर्मचारी काम पर लौटे हैं। इधर मंगलवार को कई संगठनों ने धरनास्थल पर जाकर समर्थन दिया। रोडवेज कर्मचारी नेता दलबीर किरमारा ने कहा कि अगर सरकार मांगे नहीं मानती है तो समर्थन में चक्का जाम कर देंगे। इसके अलावा कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष डा.अशोक तंवर ने भी धरनास्थल पर पहुंचकर समर्थन दिया। सिविल सर्जन डा.मनीष बंसल ने धरनास्थल पर जाकर कर्मचारियों को काम पर लौटने की अपील की, लेकिन वह नहीं लौटे। जिसके बाद शाम को मुख्यालय के आदेश के अनुसार सिविल सर्जन कार्यालय ने हड़ताल पर गए करीब 337 कर्मचारियों को बर्खास्त करने के आदेश जारी कर दिए। आदेश की कॉपी अब किसी भी समय कर्मचारियों को दी जा सकती है। वहीं अस्पताल के पास धारा 144 लागू कर दी गई है। सिविल सर्जन ने कॉपी उपायुक्त के पास भेज दी है। धरने को अस्पताल के पास से हटाने की भी प्रक्रिया भी शुरू हो सकती है। कर्मचारी अस्पताल के पास 2 किलोमीटर के दायरे में प्रदर्शन नहीं कर सकते हैं।

--हड़ताल से मैटरनिटी सेवाएं प्रभावित

नेशनल हेल्थ मिशन के कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने से सबसे ज्यादा मैटरनिटी सेवाएं प्रभावित हो रही हैं। करीब सात सेंटरों पर डिलीवरी सेवाएं बंद पड़ी हैं, जिन्हें सिविल अस्पताल फतेहाबाद में भेजा जा रहा है। यहां पर डिलीवरी केस बढ़ने से व्यवस्था बिगड़ रही है। एक बेड पर दो-दो महिलाओं को लिटाया जा रहा है। इसके अलावा महिला वार्ड में तीमारदारों की संख्या भी बढ़ रही है।