News Description
स्वास्थ्य कर्मियों की बर्खास्तगी से स्वास्थ्य सेवाएं हुई प्रभावित

हथीन : राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन कार्यक्रम के तहत लगे स्वास्थ्य कर्मियों की बर्खास्तगी के बाद क्षेत्र की स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित हुई हैं। उपमंडल के अलग-अलग स्वास्थ्य केंद्रों पर 74 में से 72 स्वास्थ्य कर्मी हड़ताल पर हैं।

नागरिक अस्पताल में सबसे ज्यादा असर जन्म मृत्यु प्रमाण पत्र, आधार कार्ड, लैब की जांच, डिलीवरी केंद्र व दवाई वितरण में आ रही हैं। हालांकि कई स्थानों पर विभाग की तरफ से वैकल्पिक व्यवस्था की गई है, लेकिन मरीज हलकान नजर आ रहे हैं।

पांच दिसंबर से प्रदेश भर में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन कार्यक्रम के तहत लगे स्वास्थ्य कर्मी अपनी मांगों को लेकर हड़ताल पर हैं। सरकार ने इन कर्मचारियों को बर्खास्त कर दिया है। कर्मियों के बर्खास्त होने के बाद क्षेत्र की स्वास्थ्य सेवाएं प्रभावित हो रही हैं।

विभाग के आंकड़ों के मुताबिक नागरिक अस्पताल में 27, मंडकोला में 12, कोट में तीन, कलसाड़ा में पांच, नांगल जाट में 12, उटावड में 13 स्वास्थ्य कर्मी (जिनमें अलग अलग पद शामिल हैं) लगाए हुए हैं। उपमंडल में तैनात 74 में से लगभग 72 कर्मी हड़ताल पर हैं।

हड़ताल के कारण नागरिक अस्पताल में दवा वितरण, डिलीवरी केंद्र, जन्म मृत्यु व आधार कार्ड से संबंधित कार्य समय पर नहीं हो पा रहे। मरीजों अस्पताल में भटकते देखे जा सकते हैं। मरीजों का कहना था कि उन्हें समय पर दवाएं तथा स्वास्थ्य सेवाएं नहीं मिल पा रही हैं।