# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
महापौर ने दस माह बाद बनाई निगम की 14 समितियां

फरीदाबाद : दस माह के लंबे इंतजार के बाद आखिरकार महापौर सुमन बाला ने नगर निगम की बकाया 14 समितियों का गठन कर दिया। निगम एक्ट के अनुसार वित्त संविदा समिति सहित कुल 15 समितियां बनाई जाती हैं। वित्त संविदा समिति का गठन महापौर ने 14 फरवरी को ही कर दिया था, मगर बकाया 14 समितियों का गठन पिछले दस माह से लटकाया हुआ था। नवगठित कमेटियों में से प्रभावी कमेटियों के चेयरमैन केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर समर्थक पार्षदों को बनाया गया है। सिर्फ एक प्रभावी समिति के चेयरमैन बड़खल की विधायक सीमा त्रिखा के समर्थक पार्षद जसवंत ¨सह को बनाया गया है। पार्षद जीतेंद्र यादव और अजय बैसला, महेंद्र सरपंच सहित निर्दलीय दीपक चौधरी को इन समितियों में अहम स्थान मिला है। महिला पार्षद ममता चौधरी, गीता रक्षवाल, सुमन भारती को भी तीन अलग-अलग समितियों का चेयरपर्सन बनाया गया है। भाजपा प्रत्याशी महेश गोयल को हराकर चुनाव जीते निर्दलीय पार्षद दीपक चौधरी को केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर खेमे से संबंधित होने का फायदा मिला और उन्हें बल्लभगढ़ जोन में तोड़फोड़ समिति का चेयरमैन बनाया गया है।

सतीश चंदीला ने समिति चेयरमैन पद से किया किनारा

पार्षद सतीश चंदीला एडवोकेट को गृहकर आकलन समिति का चेयरमैन बनाया गया है, मगर उन्होंने दैनिक जागरण से बातचीत में बताया कि वे निजी कारणों से यह पद ग्रहण नहीं करेंगे। हालांकि उन्होंने साफ कहा है कि इसमें कोई राजनीतिक कारण नहीं है मगर सूत्र बताते हैं कि चंदीला पिछले काफी दिनों से नगर निगम में महापौर सहित कुछ अन्य जनप्रतिनिधियों से नाराज चल रहे हैं।

ये बनी समितियां:

सतर्कता समिति: जीतेंद्र यादव अध्यक्ष, हेमा चौधरी उपाध्यक्ष तथा सदस्य सपना डागर, कुलबीर तेवतिया,दीपक चौधरी और सचिव रहेंगे मुख्य अभियंता।

तोड़फोड़ समिति: एनआइटी जोन- महेंद्र सरपंच अध्यक्ष, जसवंत ¨सह उपाध्यक्ष, सुरेंद्र अग्रवाल, रतनपाल, बीर ¨सह नैन सदस्य व संयुक्त आयुक्त सचिव।

बल्लभगढ़ जोन: दीपक चौधरी अध्यक्ष, दीपक यादव उपाध्यक्ष,सविता तंवर, हरप्रसाद गौड़, उमा सैनी सदस्य व संबंधित संयुक्त आयुक्त सचिव।

फरीदाबाद जोन: सुभाष आहूजा अध्यक्ष, सोमलता भड़ाना उपाध्यक्ष, अजय बैसला, नीतू भाटी, सुमन भारती सदस्य व संबंधित संयुक्त आयुक्त सचिव।

भवन व सड़क समिति: ममता चौधरी अध्यक्ष, जयवीर खटाना उपाध्यक्ष, विकास भारद्वाज, जीतेंद्र भड़ाना,नरेश नंबरदार सदस्य व मुख्य अभियंता सचिव।

प्रशासनिक समिति: मनोज नासवा अध्यक्ष, छतरपाल उपाध्यक्ष, मनवीर भड़ाना, प्रियंका चौधरी, जीतेंद्र भड़ाना सदस्य व प्रशासनिक अधिकारी सचिव।

सुंदरीकरण एवं स्वच्छता समिति: गीता रक्षवाल अध्यक्ष, सपना डागर उपाध्यक्ष, ललिता यादव, संदीप भारद्वाज, राकेश भड़ाना, सदस्य व कार्यकारी अभियंता उद्यान सचिव।

योजना एवं संसाधन समिति: धनेश अदलखा अध्यक्ष, मनवीर भड़ाना उपाध्यक्ष, प्रियंका चौधरी, संदीप भारद्वाज, उमा सैनी सदस्य व सीटीपी सचिव।

गृहकर आकलन समिति: सतीश चंदीला अध्यक्ष, मुनेश भड़ाना उपाध्यक्ष, शीतल खटाना, मनोज नासवा, सविता तंवर सदस्य।

शहरी एवं स्लम समिति: सुमन भारती अध्यक्ष, सोमलता भड़ाना उपाध्यक्ष, ममता चौधरी, महेंद्र ¨सह,गीता रक्षवाल सदस्य।

समाज कल्याण समिति: बीर ¨सह नैन अध्यक्ष, नरेश नंबरदार उपाध्यक्ष, दीपक चौधरी, दीपक यादव, सुभाष आहूजा सदस्य।

जलापूर्ति व सीवरेज: सुरेंद्र अग्रवाल अध्यक्ष, नीतू भाटी उपाध्यक्ष, ललिता यादव, जयवीर खटाना, ममता चौधरी सदस्य।

खरीद समिति: जसवंत ¨सह अध्यक्ष, उमा सैनी उपाध्यक्ष, सतीश कुमार, मनोज नासवा, मनवीर भड़ाना सदस्य।