News Description
स्कूल की शर्त पर फीस नहीं भरी तो 10 स्टूडेंट्स के नाम काटे

पानीपत.स्कूल की शर्त के तहत फीस जमा नहीं कराने पर सनातन धर्म विद्या मंदिर (एसडीवीएम) जूनियर विंग ने 10 स्टूडेंट्स के नाम काट दिए हैं। जिसका विरोध अब बढ़ने लगा है। चौथे दिन, अभिभावकों ने बच्चों के साथ स्कूल के बाहर धरना-प्रदर्शन किया। बच्चों के अभिभावकों का कहना है कि वे तो सरकार के तय नियम के तहत ही हर माह बैंक में फीस जमा कराते आ रहे हैं। वहीं, स्कूल प्रबंधन इसे गलत बता रहा है।

प्रबंधन का कहना है कि कई तरह के खर्च को मिलाकर फीस तय होती है। वह तय फीस बच्चों के परिजन जमा नहीं कर रहे। इसलिए नाम काटे गए हैं। इन सब के बीच सरकारी तंत्र पूरी तरह से मूकदर्शक बना हुआ है। जिला शिक्षा अधिकारी (डीईओ) उदय प्रताप सिंह ने कहा कि स्कूल और अभिभावक आपस में मामला निपटाएं।

नाम काटने पर राजनीति भी शुरू हो गई है। आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता सोमवार को धरने पर पहुंच गए और अभिभावकों के साथ पीएम और सीएम का पुतला जलाया। पुतला जलाते समय एक अभिभावक जलते-जलते बच गए। बहरहाल, धरना-प्रदर्शन और तेज करने की चेतावनी दी है। अभिभावकों ने कहा कि मंगलवार को स्कूल पर धरना देने के बाद हाईवे से मिनी सचिवालय तक विरोध में जुलूस निकाला जाएगा।

बेटी बचाओ बेटी-पढ़ाओ लगा रहे नारा
अभिभावकाें का कहना है कि बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का नारा पानीपत की धरती से दिया गया। अब यहीं से ही बेटियों को स्कूल से निकालना शुरू किया गया है। इसके बाद भी जिला प्रशासन मौन है। डिंपल सलूजा ने कहा कि अभिभावक दूसरी बार स्कूल के बाहर बैठे, लेकिन स्कूल मैनेजमेंट ने बातचीत नहीं की।

स्कूल ने जिन 10 स्टूडेंट्स को निकाला है, उनमें 5 लड़के और 5 लड़कियां हैं। धरना-प्रदर्शन करने वालों ने उन्हीं 5 लड़कियों से प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री का पुतला जलवाया। अभिभावक बच्चों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। अभिभावकों में गुस्सा इसलिए और अधिक है, क्योंकि स्कूल प्रबंधन ने ऐसे 1000 बच्चों के नाम काटने की बात कही है।