News Description
कई जगहों से टूटे सरस्वती नदी के तटबंध

बरसाती नदी के तटबंध गांव गुहण के पास टूट गए। इससे सैकड़ों एकड़ फसलें पानी में डूब गई। नदी के तटबंध टूटने की सूचना मिलते ही अधिकारियों के हाथ पांव फूल गए और उन्होंने टूटे तटबंधों का मौके पर पहुंच कर जायजा लिया। बीडीपीओ बाबैन अंग्रेज सिंह मोर, नायब तहसीलदार बाबैन साहब सिंह, बाबैन के थाना प्रभारी दलीप सिंह, पंचायत अधिकारी सुखदेव सिंह, ग्राम सचिव संजीव सैनी, बाबैन-गुहन के सरपंच विश्वजीत बिंदल के अलावा गांव गुहण के लोग लगातार स्थिति पर नजर रख रहे है। वहीं किसानों ने कहा कि सरकार उनके गांव की स्पेशल गिरदावरी करवा कर मुआवजा देने का काम करें, ताकि वे दोबारा से अपने खेतों में धान की रोपाई कर सके। 
किसानों का कहना है कि यदि दो दिन और पानी नहीं रुका तो किसानों द्वारा लगाई धान व चारे की फसल पूरी तरह नष्ट हो जाएगी। गांव गुहण के किसान अंग्रेज सिंह, नसीब सिंह, कृष्ण लाल, मदन लाल, रणबीर सिंह, मंदीप सिंह व करनैल सिंह सहित अनेक किसानों को कहना है कि नदी के पानी के कारण उनकी सैकड़ों एकड़ धान व चारे की फसल बिलकुल खराब हो गई है, जिससे अब उनके पशुओं के लिए भी चारे की समस्या पैदा हो जाएगी। वहीं बीडीपीओ अंग्रेज सिंह मोर का कहना है कि प्रशासन हालात पर नजर रखे हुए है। उन्होंने कहा कि बरसाती नदी में पानी के बहाव को कम करवाया जा रहा है और स्थिति ठीक करने के लिए सभी संभव कदम उठाए जा रहे है।