News Description
अतिक्रमण के लिए रेहड़ी वालों के साथ दुकानदार भी जिम्मेदार

तावडू : शहर के मुख्य मार्ग पर आए दिन लगने वाले जाम से लोग परेशान हैं। लोग इस जाम के पीछे अतिक्रमणकारियों को जिम्मेदार बता रहे हैं। लेकिन इस ओर प्रशासन व नपा प्रशासन का कोई ध्यान नहीं है।

आरोप है कि इस अतिक्रमण के पीछे भी शहर के ही कुछ दुकानदार हैं। वो अपनी दुकान के सामने रेहड़ी व छोटी दुकान लगाने की एवज में किराया वसूलते हैं। ये रेहड़ी वाले दुकान के सामने रेहड़ी खड़ी करने की एवज में तीन से चार हजार रुपये तक प्रति माह देते हैं। कुछ रहड़ी वालों ने बताया कि कुछ दुकान मालिकों को छोड़कर अधिकांश दुकानदार उनसे अपनी दुकान के सामने रेहड़ी खड़ी कराने के नाम पर किराया लेते हैं। रेहड़ी वालों ने बताया कि जब नगर पालिका प्रशासन के अतिक्रमण दस्ते द्वारा कार्यवाही की जाती है तो सारा जुर्माना व नुकसान उन्हें ही भुगतना पड़ता है। दो वक्त की रोटी जुटाने के लिए ऐसा करना पड़ता है। शहर के लोगों ने प्रशासन से मांग की है कि रेहड़ी वालों के साथ-साथ उन दुकानदारों पर भी कार्रवाई की जिस दुकान के सामने रेहड़ी खड़ी होती हैं। शहर में सोहना-रेवाड़ी रोड का सबसे बुरा हाल है।

हालांकि लोगों को इस समस्या से निजात के लिए बाइपास निकाला गया है, लेकिन शहर से निकलने वालों का इस रोड से निकलना दूभर हो जाता है। लोगों का कहना है कि नए एसडीएम से शहर के लोगों को बेहतरी की उम्मीदें थी, लेकिन वो भी इस संदर्भ में कारगर साबित होते नजर नहीं आ रहे।