# पाक PM के आरोप पर भारत का पलटवार-टेररिस्तान है पाकिस्तान         # मोदी का वाराणसी दौरा आज, 305 करोड़ से बने ट्रेड सेंटर का करेंगे इनॉगरेशन         # समुद्र में बढ़ेगा भारत का दबदबा, पहली स्कॉर्पिन पनडुब्बी तैयार         # रोहिंग्या विवाद के बीच म्यांमार को सैन्य साजो-सामान दे सकता है भारत         # चीन में सोशल मीडिया पर इस्लाम विरोधी शब्दों के प्रयोग पर लगी रोक         # परवेज मुशर्रफ का दावा-बेनजीर की हत्या के लिए उनके पति जरदारी जिम्मेदार          # भारत ने अफगानिस्तान में 116 सामुदायिक विकास परियोजनाओं की ली जिम्मेदारी         # जम्मू-कश्मीर में दो आतंकी गिरफ्तार, सशस्त्र सीमाबल पर किया था हमला        
News Description
हरियाणा रोडवेज के बेड़े में जल्द ही शामिल की जाएंगी 600 नई बसें

चंडीगढ, 30 जून- हरियाणा के परिवहन मंत्री कृष्ण लाल पंवार ने कहा कि हरियाणा रोडवेज के बेड़े में जल्द ही 600 नई बसें शामिल की जाएंगी, इनमें से 300 बसों की चेसिस गुडग़ांव वर्कशाप में पहुंच चुकी है और 300 जल्द ही पहुंच जाएंगी। इन बसों के सडक़ों पर उतरने के बाद हरियाणा रोडवेज के मौजूदा 4200 बसों के बेड़े की संख्या बढकऱ 4800 हो जाएगी। 
यह जानकारी आज उन्होंने सोनीपत में जिला कष्ट निवारण एवं परिवाद समिति की बैठक के बाद दी।
सीएनजी बसों में ईंधन भरवाने की दिक्कत के संबंध में उन्होंने कहा कि पूर्व सरकार में बगैर सीएनजी पंपों की आपूर्ति के सीएनजी की बसें खरीद ली गई। यह लो फ्लोर बसें हरियाणा की सडक़ों के मानकों के अनुसार भी नहीं थी और सीएनजी ईंधन भरवाने के लिए भी बार-बार दिल्ली जाना पड़ता था। ऐसे में अब इस समस्या का हल निकाला जा रहा है। उन्होंने कहा कि जैसे ही पूरे हरियाणा में सीएनजी का नेटवर्क हो जाएगा उसके बाद नई सीएनजी बसों पर विचार किया जाएगा।
उन्होंने कहा कि जल्द ही हरियाणा रोडवेज में 1500 ड्राईवर व 800 कंडक्टरों की भर्ती की जाएगी इसके लिए आवेदन भी लिए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि तब तक एडहाल पर भी चालक व परिचालक रखे जाने की सरकार की योजना है।  उन्होंने कहा कि गाड़ी चलाते समय मोबाईल पर बात  उन्होंने कहा कि हरियाणा में फिलहाल दो लाख परिवारों के पास मकान नहीं हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी लोगों को 2022 तक सभी को मकान देने का वायदा किया है। प्रदेश सरकार भी इसी नीति पर कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि जमीन मुहैया करवाने पर प्रदेश के सभी बड़े गांवों और ब्लाकों में भी हाउसिंग बोर्ड की कालोनियां विकसित