# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
दिव्यांगों ने डीसी का रास्ता रोका तो 36 दिन का धरना 36 मिनट में हुआ खत्म

हिसार : विकलांग अधिकार मंच का 36 दिनों से चला आ रहा धरना सोमवार को खत्म हो गया। प्रशासन की बेरूखी से नाराज होकर दिव्यांगों ने डीसी आफिस का घेराव का रास्ता जाम कर दिया। उपायुक्त को उसी समय किसी कार्य से बाहर जाना था। दिव्यांगों द्वारा रास्ता जाम करने से वे वापस ऑफिस में बैठ गए। वहीं डीसी आफिस के कर्मचारियों और उनके पीए ने दिव्यांगों को उठाने की बहुत कोशिश की मगर दिव्यांग नहीं माने। दिव्यांगों ने साफ कहा कि जब तक डीसी उनके पास आकर उनकी बातों को नहीं सुनेंगे जब तक वे रास्ते से नहीं हटेंगे।

हालात बिगड़ते देख डीसी ने एडीसी को बुलाया और दिव्यांगों से बातचीत करने को कहा। एडीसी ने दिव्यांगों से कहा कि आप शांत होकर बात करें आपकी सभी मांगों पर गौर किया जाएगा। मगर दिव्यांगों ने कहा कि उन्हें डीसी निखिल गजराज से ही बात करनी है। एडीसी ने कहा कि डीसी से मिलना है तो पांच लोगों को ही अंदर जाने की इजाजत मिलेगी। इस बात से दिव्यांग और नाराज हो गए और उन्होंने नारेबाजी शुरू कर दी। दिव्यांगों की नारेबाजी से डीसी अपने कक्ष से बाहर निकले और उन्होंने दिव्यांगों को सख्ती से प्यार से बात करो ज्यादा जोर से मत बोलो, अगर शोर मचाओगे तो उनकी कोई बात नहीं सुनी जाएगी। इसके बाद दिव्यांग शांत हुए और उनकी मांगों का ज्ञापन डीसी को सौंपा। उपायुक्त ने मांगों को ध्यान से सुना और कहा कि इस काम के लिए एक कमेटी का गठन किया जाएगा जिसमें विकलांग मंच के अधिकारियों को शामिल करके इन समस्याओं को 15 दिन के अंदर हल कर दिया जाएगा। इसके बाद दिव्यांगों ने उपायुक्त का आभार जताया और धरना समाप्त कर दिया। विकलांग अधिकार मंच के राज्यध्यक्ष ऋषिकेश राजली ने कहा कि इस काम के लिए जो कमेटी बनाकर 15 दिन के अंदर पूरा करने का वायदा किया है वो स्वागत योग्य है। यदि प्रशासन इस बार किसी भी प्रकार की लापरवाही करता है तो 30 दिन के बाद पूरे हरियाणा के विकलांग उपायुक्त कार्यालय पर हल्ला बोलेंगे। धरना-प्रदर्शन में अशोक पाली, महाबीर, कुलेरी, राहुल खट्टक, मनोज कुमार, राजबीर सरहेड़ा, संदीप पटेल नगर, कृष्ण कुमार, प्रेम कुमार, रमेश शोठी, सोनू, औमप्रकाश, राजेश कुमार, सुरेश कुमार आदि शामिल थे।