# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
देशद्रोह मामले में दो कांस्टेबल की गवाही हुई, रामपाल समेत 913 हुए पेश

हिसार : देशद्रोह मामले में सतलोक आश्रम संचालक रामपाल समेत 913 आरोपी की सेंट्रल जेल वन की अदालत में पेशी हुई। इस दौरान चार गवाह बुलाए थे। दो कांस्टेबल कुलदीप और र¨वद्र की गवाही हुई। पीजीआइ के डाक्टर जय प्रकाश की गवाही पर चीफ हुआ, जबकि चौथे गवाह हेड कांस्टेबल बूटा ¨सह की गवाही नहीं हो पाई। अदालत ने आगामी सुनवाई के लिए 5 मार्च की तारीख निर्धारित की है। पहले एक-दो सप्ताह या माह बाद उक्त मामले में पेशी होती थी लेकिन इस बार अदालत ने सुनवाई के लिए काफी लंबी तारीख दी है। मंगलवार को भी एक अन्य मामले में रामपाल की पेशी होनी है। इसके चलते उसके सैकड़ों समर्थक हिसार पहुंच गए। जेल अदालत के बाहर खड़े रहे। उन्हें पुलिस ने खदेड़ दिया लेकिन कुछ देर बाद वापस लौट आए। उन्हें संभालने के लिए भारी पुलिस बल जेल परिसर के आसपास लगाया गया था। टाउन पार्क में समर्थकों को एकजुट नहीं होने दिया। वहीं, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन और ¨जदल पार्क में रामपाल के समर्थक डटे रहे। बता दें कि सुबह चार बजे ही पुलिस सार्वजनिक स्थानों पर मोर्चा संभाल लेती है, ताकि समर्थकों की भीड़ को शहर में घुसने से रोका जाए। उनके आने से कानून व्यवस्था बिगड़ती है। इसके अलावा भीड़ अधिक होने पर सुरक्षा में सेंध का खतरा बना रहता है। वहीं, सतलोक आश्रम से जुड़े एक मामले में अदालत ने भगोड़ा घोषित अनिल को दोषी करार दिया है। वह काफी समय से गैर हाजिर चल रहा था। अदालत ने उसे भगोड़ा घोषित किया था।