# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
सैनिक कॉलोनी में नगर निगम ने की तोड़फोड़

 फरीदाबाद : नगर निगम ने सैनिक कॉलोनी में कई जगह स्टिल्ट पार्किंग की जगह किए गए अवैध निर्माणों के खिलाफ तोड़फोड़ की कार्रवाई की। बाद में निगम अधिकारियों को कुछ स्थानीय लोगों ने कोर्ट की स्टे की प्रति दिखाई। इसके बाद निगम अधिकारियों ने स्टे की प्रति पर कानूनी प्रकोष्ठ सेल के अधिकारियों से बातचीत की गई। इसके बाद निर्णय लिया गया कि तोड़फोड़ नहीं की जाएगी, बल्कि सी¨लग होगी। तोड़फोड़ दस्ते ने बाद में कुछ मकानो में सी¨लग भी की। निगम की यह कार्रवाई सुबह 11 बजे से दोपहर डेढ़ बजे तक चली। सैनिक कॉलोनी में मौके पर व्यवस्था को काबू करने के लिए काफी पुलिस बल का इंतजाम किया गया था। नगर निगम के तीनों जोन के अधिकारी सैनिक कालोनी में तोड़फोड़ की कार्रवाई करने के लिए छह टीमों के साथ पहुंच गए थे। निगम ने तोड़फोड़ की कार्रवाई शुरू की तो इसी दौरान कुछ लोगों ने अधिकारियों को स्टे की प्रति दिखाई। इसके बाद ही निगम अधिकारियों ने कार्रवाई रोक दी।

बता दें कि सैनिक कॉलोनी में ऐसे लगभग 1200 मकान हैं, जिनमें स्टिल्ट पार्किंग का प्रावधान है। इनमें कई जगह पार्किंग की जगह शौचालय, स्टोर रूम, गार्ड रूम व अन्य निर्माण कर लिए गए हैं। अवैध निर्माण के मामले में एक व्यक्ति में हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। हाईकोर्ट ने इस मामले में कार्रवाई की रिपोर्ट नगर निगम से मांगी तो यहां तोड़फोड़ की कार्रवाई शुरू की गई। नगर निगम अब तक तीन, चार बार यहां कार्रवाई कर चुका है। यहां 79 मकानों में सी¨लग भी की जा चुकी है। जिन लोगों के मकानों में सी¨लग की गई थी, पिछले दिनों वे भी कोर्ट पहुंच गए। कोर्ट ने राहत देते हुए नए वर्ष में जनवरी में इस मामले में सुनवाई करनी है। सैनिक कॉलोनी निवासी संजय राव ने बताया कि सभी निर्माण काफी छोटे हैं। इन्हें तोड़ा जाना जनहित में नहीं है। निर्माण कार्य को वैध कराया जा सकता है। इसकी सभी लोग फीस देने को भी तैयार हैं। इस बारे में जिला उपायुक्त, निगमायुक्त और अन्य अधिकारियों को पत्र लिखा जा चुका है, लेकिन अधिकारी ध्यान नहीं दे रहे हैं। अब हाईकोर्ट इस मामले में स्टे दे चुका है।

नगर निगम की छह टीमें सैनिक कॉलोनी में अवैध निर्माण तोड़फोड़ के लिए गईं थी। मौके पर कुछ लोगों ने स्टे की प्रति दिखाई। यह स्टे सभी निर्माणों पर लागू होता है। इसलिए तोड़फोड़ बंद कर दी है। हमने कई मकानों में किए गए अवैध निर्माण सील किए हैं।