News Description
भर्ती के आदेश जारी होने पर लौटने लगे NHM कर्मी, कुछ पक्की नियुक्ति पर अड़े

पानीपत। नेशनल हैल्थ मिशन (एनएचएम) कर्मियों की हड़ताल को देखते हुए प्रदेश में सरकारी अस्पतालों के आसपास धारा 144 लागू कर दी गई है। ताकि मरीजों को दिक्कत न हो। यह अस्पताल परिसर के 2 किलोमीटर के दायरे में लागू रहेगी।

अब अस्पताल के आसपास 5 या इससे ज्यादा कर्मचारी न तो इकट्ठे हो सकेंगे और न ही नारेबाजी कर सकेंगे। इसके साथ ही नोटिस दिए जाने के बावजूद काम पर नहीं लौटने वाले कर्मचारियों की मंगलवार से बर्खास्तगी के लिए संबंधित सीएमओ को आदेश दे दिए गए हैं। इसके साथ ही उन्हें कहा गया है कि वे बर्खास्तगी करने के साथ ही तुरंत नई वैकेंसीज निकालकर तुरंत भर्तियां कर लें।

स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने सोमवार को चंडीगढ़ में विभागीय अधिकारियों के साथ समीक्षा मीटिंग के बाद बताया कि अभी फिलहाल किसी भी कर्मचारी को बर्खास्त नहीं किया गया है। क्योंकि वे धीरे-धीरे काम पर लौट रहे हैं। अब केवल सिरसा, मेवात और गुड़गांव समेत कुछ जिलों में ही एनएचएम कर्मी हड़ताल पर हैं। इनके बारे में भी संबंधित जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमओ) को उनकी बर्खास्तगी के लिए आदेश दे दिए गए हैं। विज ने स्पष्ट किया कि एनएचएम कर्मी केंद्र सरकार के प्रोजेक्ट के तहत कांट्रेक्ट पर काम कर रहे हैं। इसलिए उन्हें स्थायी करने का मसला राज्य सरकार के क्षेत्राधिकार में नहीं है।

इसके लिए उन्हें केंद्र सरकार से ही बात करनी होगी। अगर केंद्र सरकार उन्हें स्थायी करती है तो राज्य सरकार भी उस आदेश को लागू करने पर विचार कर सकती है। उन्होंने इन खबरों को निराधार बताया कि राज्य में अब तक 10 हजार एनएचएम हड़ताली कर्मियों को बर्खास्त किया जा चुका है