# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
चाक चौबंद होगी पंचकूला की सुरक्षा, मुख्य स्थानों पर लगेंगे हाईटेक कैमरे

पंचकूला : शहर में सुरक्षा व्यवस्था और यातायात नियंत्रण बेहतर करने के उद्देश्य से सीसीटीवी कैमरे लगाने के लिए पुलिस आयुक्त एएस चावला की अध्यक्षता में सोमवार को बैठक हुई। जिसमें नगर निगम के आयुक्त राजेश जोगपाल एवं पुलिस उपायुक्त मनबीर सिंह भी मौजूद रहे।

पुलिस की ओर कमिश्नर जोगपाल को कुछ नए एरिया में सीसीटीवी कैमरे लगाने के लिए कहा गया है, जिसकी प्रपोजल मंगलवार को निगम आयुक्त को सौंप दी जाएगी। पूरा बजट निगम द्वारा खर्च किया जाएगा। 7 सीसीटीवी कैमरे डेरा हिंसा के दौरान उपद्रवियों ने तोड़ दिए है। राजेश जोगपाल ने पुलिस को पूरा सहयोग करने का आश्वासन दिया है। सूत्रों के अनुसार इस बैठक में एक ड्रोन भी खरीदने पर चर्चा हुई है, जोकि पंचकूला में 25 अगस्त को जिस प्रकार से हिंसा हुई, वैसे मामलों में ऊपर से नजर रखने के काम आ सके।

नगर निगम की ओर 56 क्लोज सर्किट टेलीविजन कैमरे (सीसीटीवी) लगाए गए थे। साल 2015 में 46 स्टेटिक और 10 रोटेटिंग कैमरे लगाए थे। इस प्रोजेक्ट पर 2 करोड़ 40 लाख रुपये खर्च आया था। इनसे शहर के 17 मुख्य स्थानों पर निगरानी रखी जानी थी। इन कैमरों की मॉनीटरिंग के लिए सेक्टर-14 थाने में कंट्रोल रूम बनाया गया है। सभी लोकेशन पुलिस की सहमति से चयनित की गई थी। शहर के लगभग हर गोल चक्कर, एंट्री प्वाइंट्स समेत अन्य प्रमुख स्थानों पर सीसीटीवी लगे हैं। ये कैमरे कम चलने के कारण अपराध रोकने में नाकाम साबित हो रहे हैं।

ट्रैफिक रूल्स का उल्लंघन कर सड़कों पर दुर्घटनाओं की वजह बनने वाले भी सीसीटीवी कैमरे खराब होने की वजह से पकड़ से बाहर हैं। निगम ने यह सीसीटीवी मैनेज करने का कांट्रैक्ट किसी एजेंसी को दिया गया था। इस एजेंसी ने पेमेंट नही मिलने के कारण मार्च 2017 से काम बंद कर रखा है।