# बयान से पलटे करणी सेना प्रमुख ,पद्मावत देखने से इंकार         # अमेरिका में शटडाउन खत्म, राष्ट्रपति ट्रंप ने साइन किए बिल         # दिल्ली: राजपथ पर फुल ड्रेस रिहर्सल आज, कई जगह मिल सकता है जाम         # सेंसेक्स की डबल सेंचुरी, पहली बार 36000 के पार, निफ्टी ने भी रचा इतिहास         # सीलिंग के विरोध में दिल्ली के सभी बाजार आज रहेंगे बंद         # भारत-पाक बॉर्डर पर तनाव के बीच जम्मू कश्मीर में LOC के आर - पार बस सेवा फिर शुरू         # मिजोरम में शरण लिए म्यांमार के 1400 लोगों का देश लौटने से इनकार         # हरियाणा में सरकारी कर्मचारियों को देना होगा दहेज नहीं लेने का शपथ पत्र         # हरियाणा के कांग्रेस विधायकों को पार्टी फंड के लिए नोटिस         # दिल्ली एनसीआर में मौसम ने ली करवट, हल्की बारिश से ठंड की वापसी        
News Description
हास्पिटल से निकली ये की अनोखी बरात, ब्लाइंड बच्चों ने शादी में निभाई हर रस्म

फरीदाबाद.रविवार को दोपहर एक बजे एनएच-3 महावीर हास्पिटल से एक अनोखी बारात निकली। अनोखी इसलिए क्योंकि इस बारात में शामिल होने वाले 70 बराती बेहद खास हैं। ये बराती हैं ब्लाइंड बच्चे। जो आज तक सिर्फ स्कूल के प्रोग्राम या छोटे-मोटे कार्यक्रम में ही हिस्सा ले पाते थे। ये देख नहीं सकते, लेकिन महसूस कर सकते हैं उन खुशियों को, जिनमें शामिल होने का इन्हें मौका नहीं दिया जाता। इन्हें सामाजिक त्यौहारों, पर्व, समारोहों में शामिल नहीं किया जाता। इससे ये खुद को समाज में उपेक्षित महसूस करते हैं। इनकी खुशियां इन तक ही सिमटकर रह जाती है। लेकिन समाज में कुछ लोग हैं, जो ब्लाइंड बच्चों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने के लिए प्रयास कर रहे हैं। स्पेशल गेस्ट के तौर पर शामिल हुए बच्चेपेशे से एडवोकेट गौरव धींगड़ा ने अपनी शादी में बाराती के तौर पर स्पेशल गेस्ट के रूप में ब्लाइंड बच्चों को शामिल किया।

- 70 ब्लाइंड बच्चे रविवार को बारात में आम लोगों की तरह नाचते-झूमते-गाते हुए सबके साथ निकले।

- सभी ने इन बच्चों के साथ डांस किया। बारात में ये बच्चे बेहद खुश दिखाई दिए।

- शादी का वेन्यू भी ब्लाइंड बच्चों के लिए चलाए जा रहे स्कूल रहा। पहले स्कूल के बच्चे बराती बनकर बरात में शामिल हुए। फिर स्कूल के बारात पहुंचने पर यहां स्वागत किया।

- विवाह की सभी रस्म में हिस्सा लिया।

- गौरव के अनुसार, ब्लाइंड बच्चों को समाज की मुख्यधारा से जोड़ने उन्हें बाकी लोगों की तरह समकक्ष महसूस कराने के लिए यह प्रयास किया है।

- नेशनल एसोसिएशन फॉर ब्लाइंड के अध्यक्ष अजीत पटवा के अनुसार इस कार्यक्रम में शामिल होकर बच्चे बेहद खुश हुए।

- इस तरह की बारात पहली बार निकली। जिसमें बाराती के रूप में ब्लाइंड बच्चों को इनवाइट किया गया।

- उन्होंने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि समाज के अन्य लोग भी इस कार्यक्रम से प्रेरणा लेंगे। इन बच्चों को अपनी खुशियों में शामिल करेंगे।